रामपुर। सांसद और समाजवादी पार्टी के कद्दावर नेता आजम खां की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। अब जमीनों पर कब्जा करने के उन पर शनिवार को तीन और केस दर्ज हुए। अजीमनगर थाने में दर्ज इन मुकदमों में किसानों की जमीनों पर कब्जा कर जौहर यूनिवर्सिटी में मिलाने का आरोप है। इस तरह रामपुर के इस सांसद पर अब तक 27 मुकदमे दर्ज हो चुके हैं।

इस बीच, आजम खां के खिलाफ दर्ज कराए जा रहे मुकदमों की जांच के लिए शनिवार को रामपुर पहुंचे सपा विधायक दल को विरोध का सामना करना पड़ा। आजम विरोधियों ने हंगामा खड़ा कर दिया। गांधी समाधि पर काफिले को घेर लिया और आजम हाय-हाय के नारे लगे। बाद में 21 सदस्यीय विधायक दल ने यूनिवर्सिटी पहुंचकर हालात का जायजा लिया।

ये है ताजा मामला

गांव आलियागंज के किसान जाकिर, मुहम्मद आलिम और नूर आलम का आरोप है कि जौहर यूनिवर्सिटी के निर्माण के समय सांसद आजम खां, तत्कालीन सीओ सिटी और वर्तमान में यूनिवर्सिटी के मुख्य सुरक्षा अधिकारी आले हसन खां और तत्कालीन अजीमनगर थानाध्यक्ष कुशलवीर सिह द्वारा उनकी भूमि लेने के लिए मारा-पीटा गया। भूमि का बैनामा कराने के लिए जबरन दबाव बनाया गया। उन्हें एक दिन हवालात में भी बंद रखा गया। जमीन न देने पर चोरी, चरस, स्मैक आदि के झूठे मुकदमे में जेल भेजने की धमकी दी गई। इसके बाद भी जब भूमि का बैनामा जौहर यूनिवर्सिटी के पक्ष में नहीं किया तो आरोपितों ने उस पर जबरन कब्जा कर लिया।

Posted By: Arvind Dubey

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close