Tiddi Dal Attack : इस वर्ष टिड्डी दल एक बड़ी समस्‍या बनकर उभरा है। पिछले एक महीने में केंद्र सरकार देश के कई राज्‍यों में टिड्डी दल को लेकर हाई अलर्ट घोषित कर चुकी है। कोरोना संकट में वैस ही कृषि व्‍यवस्‍था, बाजार ठप हैं, इस पर यह संकट किसानों की मुसीबत बढ़ा रहा है। केंद्र सरकार ने सोमवार को बताया कि 26-27 जुलाई की रात में राजस्थान और गुजरात के 10 जिलों में टिड्डी दल नियंत्रण अभियान चलाया गया। आधिकारिक बयान के मुताबिक, लोकस्ट सर्किल ऑफिसेज (एलसीओ) ने टिड्डी दल नियंत्रण अभियान राजस्थान में नौ जिलों के 36 स्थानों पर चलाया। ये जिले हैं जैसलमेर, बाड़मेर, जोधपुर, बीकानेर, चुरु, नागौर, झुंझुनु, हनुमानगढ़ और श्रीगंगानगर। इसके अलावा गुजरात में कच्छ जिले के एक स्थान पर भी यह अभियान चलाया गया। बयान के मुताबिक, अपरिपक्व गुलाबी टिड्डयों और व्यस्क पीली टिड्डयों के दल इन 10 जिलों में सक्रिय हैं। 11 अप्रैल से 26 जुलाई तक एलसीओ द्वारा राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश और हरियाणा के 2,14,642 हेक्टेयर क्षेत्र में नियंत्रण अभियान चलाया गया। वहीं, राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हरियाणा, उत्तराखंड और बिहार सरकारों ने 2,14,130 हेक्टेयर क्षेत्र में नियंत्रण अभियान चलाया है। राजस्थान के कुछ जिलों को छोड़कर कही और फसलों को कोई उल्लेखनीय नुकसान नहीं हुआ है। टिड्डियों को लेकर स्पेशल गिरदावरी के आदेश राज्य सरकार की ओर से राजस्व विभाग को दिए जाते हैं और फिर स्थानीय स्तर पर गिरदावरी होती है।

Posted By: Navodit Saktawat