नई दिल्ली। अयोध्या के विवादास्पद राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने समान नागरिक संहिता (यूनिफॉर्म सिविल कोड) पर लंबित फैसले का संकेत दिया। उन्होंने कहा कि समय आ गया है जब देश में यूनिफॉर्म सिविल कोड (यूसीसी) लागू किया जाए। पत्रकारों ने जब उनसे यूसीसी के बारे में सवाल किया, तो उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है।

सोमवार को दिल्ली उच्च न्यायालय यूसीसी को लागू करने की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करने वाला है। मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की खंडपीठ 15 नवंबर को मामले की सुनवाई करेगी। यूसीसी के लागू होने के बाद किसी नागरिक के व्यक्तिगत मामलों को उनके धर्म से इतर नियंत्रित करने के लिए कानून होंगे। बताते चलें कि मई में अदालत ने केंद्र सरकार और विधि आयोग से कहा था कि वे यूसीसी लागू करने के संबंध में जनहित याचिका पर अपना हलफनामा दायर करें।

रक्षा मंत्री ने भी अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को एक ऐतिहासिक फैसला बताया। उन्होंने कहा कि अयोध्या मामले में सर्वोच्च न्यायालय का फैसला ऐतिहासिक है। मुझे लगता है कि इससे 'सर्व धर्म समभाव' (सभी धर्म समान हैं) की भावना मजबूत होगी और लोगों के बीच संबंध बेहतर होंगे। मेरी अपील है कि शांति बनाए रखनी चाहिए। फैसले को किसी की जीत या हार के रूप में नहीं लिया जाना चाहिए।

बताते चलें कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या भूमि विवाद मामले में दिए अपने फैसले में कहा कि पूरी विवादित 2.77 एकड़ भूमि को हिंदू पक्ष को दिया जाए। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा केंद्र सरकार तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट बनाने बनाए, जो अयोध्या में एक मंदिर का निर्माण करेगा। वहीं, सुन्नी वक्फ बोर्ड को वैकल्पिक जगह पर मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन दिए जाने का फैसला कोर्ट ने सुनाया।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस