लाइलाज बीमारियों का इलाज भी योग और आयुर्वेद से संभव हो सका है। हरिद्वार में पतंजलि तीन हजार बेड का अस्पताल बना रही है। जो अब तक का सबसे बड़ा अस्पताल होगा। योग और आयुर्वेद से ही गंभीर बीमारियों का स्थायी उपचार संभव है। स्वामी रामदेव ने गिलोय व नीम के इस्तेमाल से होने वाले नुकसान के दावे का पूरी तरह खंडन किया। कहा कि गिलोय व नीम बहुत प्रभावी जड़ी बूटी है। इसका शरीर में कोई भी नुकसान नहीं है। इसका दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। पतंजलि का लक्ष्य है कि प्रत्येक व्यक्ति को योग का महत्व बताकर उसको योग से जोड़ा जाए। हमारा उद्देश्य रोगी को सही करना ही नहीं, रोग को पूरी तरह खत्म करना भी है। यह बातें स्वामी रामदेव ने मंगलवार को गाजियाबाद के मोदीनगर में पतंजलि योगपीठ के उद्घाटन कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि कहीं। एलोपैथी पर कटाक्ष करते हुए स्वामी रामदेव ने कहा कि ड्रग्स इंडस्ट्री द्वारा तैयार किया गया सिलेबस डाक्टरों को पढ़ाया जा रहा है। इसी वजह से ड्रग्स को इतना बढ़ावा मिल रहा है। यदि यह उपचार आयुर्वेद से किया जाए तो रोग को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है।

Posted By: Navodit Saktawat

  • Font Size
  • Close