हैदराबाद। केंद्र सरकार द्वारा तत्काल तीन तलाक को रोकने के लिए सख्त कानून बना दिया गया है। बावजूद इसके तीन तलाक के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। हाल ही में हैदराबाद में एक तीन तलाक का मामला सामने आया है जिसमें आरोपी पति ने पत्नी को सिर्फ इस वजह से तलाक दे दिया क्योंकि उसके दांत टेढे मेढ़े थे। पीड़िता रुखसाना बेगम ने आरोप लगाया है कि उसके पति मुस्तफा ने उसे खराब दांत होने की वजह से तलाक दिया। पीड़िता के मुताबिक उसका पति उसके साथ कई महीनों से दुर्व्यवहार कर रहा था। एक दिन उसने मुझे तीन बार तलाक कहा और घर से चला गया। जब मैनें उसे फोन किया तो उसने कहा कि अब हमारे बीच कोई संबंध नहीं है। पीड़िता ने इस मामले में न्याय की गुहार भी की है।

तीन तलाक कानून बनने के बाद यह कोई पहला मामला नहीं है जब पति ने छोटी सी बात को लेकर पत्नी को तीन तलाक दे डाला है। इसके पूर्व भी देश के कई राज्यों से तीन तलाक के मामले सामने आ चुके हैं। पुलिस द्वारा इन मामलों में एफआईआर भी दर्ज की गई है।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में बना कानून

मुस्लिम महिलाओं को तत्काल तीन तलाक के सितम से बचाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा सख्त कानून बनाया गया है। अब ऐसा करने पर आरोपी पति के खिलाफ आपराधिक प्रकरण दर्ज होता है। बता दें कि मोदी सरकार ने पहले कार्यकाल में तीन तलाक को लेकर विधेयक पारित किया था लेकिन राज्यसभा में विधेयक पारित नहीं हो सका था। हालांकि मोदी सरकार ने अपने दूसरे कार्यकाल के शुरुआत में ही राज्यसभा में बहुमत जुटाने के बाद इस बिल को पारित कराते हुए कानून की शक्ल दे दी थी।

Posted By: Neeraj Vyas