UP Budget 2020: उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अपना चौथा बजट मंगलवार को पेश किया है। मंत्री परिषद ने कैबिनेट मीटिंग में लगभग 5.25 लाख करोड़ रुपए के बजट की मंजूरी दी है। सीएम योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में वित्तमंत्री सुरेश खन्ना ने सदन में बजट पेश किया। यूपी सरकार के चौथे बजट में 10 हजार 967 करोड़ 87 लाख की नई योजनाएं शामिल की गई हैं। बजट में चिकित्सा क्षेत्र के लिए बड़ी राशि का आवंटन किया गया है। इसके अलावा बुनियादी ढांचे पर सरकार का फोकस रहा। राज्य में लखनऊ में मेडिकल हब बनाने और विश्वनाथ कॉरिडोर पर भी फोकस रहा। बजट में महिलाओं, किसानों और युवाओं को भी साधने की कोशिश खी गई। बता दें कि योगी सरकार ने 2019-2020 में लगभग 4.75 लाख करोड़ का बजट पेश किया था। जानें योगी सरकार के बजट की खास बातें:

चिकित्सा क्षेत्र में बड़ी राशि आवंटित

योगी सरकार का फोकस राज्य की चिकित्सा व्यवस्था को बेहतर करने पर नजर आया है। बजट में जिला अस्पतालों के लिए 70 करोड़ दिए गए हैं। ग्रामीण सीएसकी को बेहतर करने के लिए 50 करोड़ की राशि आवंटित की गई है। सीएचसी केंद्रों के लिए 65 करोड़ और एसजीपीजीआइ के लिए 820 करोड़ की बड़ी राशि को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा बजट में 100 बेड संयुक्त चिकित्सालय बनाने और नए बनाए गए जिलों में अस्पताल बनाने की घोषणा की गई है।

बजट में हरदोई में मेडिकल कॉलेज प्रस्तावित किया गया है। इसके लिए 30 करोड़ की शुरुआती राशि आवंटित हुई है। ट्रामा सेंटर के लिए 12.50 करोड़ और केजीएमयू के लिए 919 करोड़ की राशि बजट में रखी गई है।

बजट में अन्य घोषणाएं

योगी सरकार के चौथे बजट में मूलभूत सुविधाओं में सुधार पर जोर दिया गया है। इसके लिए अटल आवासीय स्कूल को 270 करोड़ आवंटित किए गए हैं। पीएम मातृ योजना के लिए 291 करोड़ मंजूर हुए हैं। राज्य सड़क निधि में 1500 करोड़ की राशि और मार्ग अनुरक्षण के लिए 3524 करोड़ प्रस्तावित हैं।

बजट में अयोध्या में एयरपोर्ट बनाने का भी प्रस्ताव रखा गया है। इसके लिए शासन ने 500 करोड़ की राशि का आवंटन किया है। बुंदेलखंड के लिए 210 करोड़ और राज्य में पुलों के निर्माण के लिए 2529 करोड़ की राशि रखी गई है। अल्पसंख्यक कल्याण के लिए बजट रखते हुए सरकार ने मान्यता प्राप्त मदरसों को 479 करोड़ रुपए की घोषणाा की है।

कानपुर में मेट्रो के लिए सरकार ने 358 करोड़ रखे हैं। सरकार ने उम्मीद की है कि इस वित्तीय वर्ष में 2.18 लाख करोड़ से ज्यादा का राजस्व कर जमा होगा। योगी सरकार ने इस बार बजट में पूर्वांचल और बुंदेलखंड के पिछड़ेपन को दूर करने के लिए बड़ी धनराशि का आवंटन किया है।

राज्य में बुनियादी ढ़ांचे में सुधार हो इसके लिए सरकार ने इस बार बजट में फोकस किया है। यही वजह है कि सड़क, ब्रिज सहित अन्य जरूरी मूलभूत सुविधाओं पर जोर है। सरकार ने पांच एक्सप्रेस वे परियोजनाओं के लिए खजाना खोलने की बात कही है।

Posted By: Neeraj Vyas