Noida: यूपी के नोएडा की ओएमएक्स सोसाइटी में बीजेपी नेता श्रीकांत त्यागी को लेकर यूपी सरकार का रवैया सख्त होता जा रहा है। अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गृह विभाग से इस मामले में पूरी रिपोर्ट मांगी है। मुख्यमंत्री ने मामले की विस्तृत जांच के साथ ही आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। श्रीकांत त्यागी के खिलाफ सोसायटी की एक महिला के साथ गुंडागर्दी करने और धमकाने का मामला दर्ज किया गया है। योगी सरकार ने इस मामले में सख्त रुख अख्तियार करते हुए श्रीकांत त्यागी पर 25000 रुपये का इनाम घोषित किया है। उसके खिलाफ गैंस्टर एक्ट भी लगाया गया है। लेकिन उसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया जा सका है।

इससे पहले आज आरोपी श्रीकांत त्यागी द्वारा नोएडा स्थित उनके आवास के बाहर बनाए गए 'अवैध' निर्माण को बुलडोजर मंगवाकर ढहा दिया गया। वहीं इस मामले में लापरवाही बरतने को लेकर पुलिस आयुक्त आलोक सिंह ने आज थाना फेस-2 के थानाध्यक्ष सुजीत उपाध्याय समेत 5 पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया। सूत्रों के मुताबिक, त्यागी को गिरफ्तार करने के लिए नोएडा पुलिस की 8 टीमें लगाई गई हैं।

क्या था मामला?

आपको बता दें कि सोसाइटी की एक महिला ने सेक्टर-93बी स्थित ग्रैंड ओमेक्स सोसायटी में नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए श्रीकांत त्यागी द्वारा कुछ पेड़ लगाने पर आपत्ति जताई थी। जिसके बाद त्यागी ने महिला के साथ कथित तौर पर अभ्रद व्यवहार किया और उसे धक्का दिया। घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था। मामला दर्ज होने के बाद से ही त्यागी फरार है। स्थानीय लोगों ने त्यागी को जल्द ही गिरफ्तार करने की मांग की है।

नोएडा पुलिस की लापरवाही

इससे पहले सांसद महेश शर्मा ने भी यहां पहुंचकर लोगों से बात की थी और श्रीकांत त्यागी को 48 घंटों के भीतर गिरफ्तार करने का आश्वासन दिया था। लेकिन अभी तक उसकी गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। उधर श्रीकांत त्यागी ने अपने वकील के जरिए सरेंडर की अपील की थी। इस पर कोर्ट ने उसे राहत देते हुए 10 अगस्त तक सरेंडर करने का समय दिया है। लेकिन इस बीच पुलिस उसे गिरफ्तार कर सकती है। वहीं सरकारी एजेंसियां अब उसके कारोबार की छानबीन भी कर रही हैं, ताकि उसके आय के स्रोतों का पता चल सके।

Posted By:

  • Font Size
  • Close