जोधपुर में 21 जनवरी को स्वर्ण व्यवसाई के साथ हुई लूट का खुलासा करते हुए जोधपुर कमिश्नरेट पुलिस में इस मामले में 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया है चारों ने पूछताछ के बाद इस लूट को अंजाम देना स्वीकार किया है लूट का खुलासा करते हुए जोधपुर पुलिस उपायुक्त पूर्व भुवन भूषण यादव ने बताया कि आरोपीयो द्वारा आने - जाने के रास्ते की रेकी की जाकर प्रार्थी का पिछा कर आरोपीयो द्वारा लूट की वारदात करने का समय निचित कर घटना को अंजाम दिया ।

जोधपुर पुलिस कमिश्नरेट की बनाड और डीएसपी पूर्व की टीम ने एक ऐसी गैंग का पर्दाफाश किया है जिसने फिल्मी स्टाइल में सात लाख रुपए और 100 ग्राम सोने की लूट की थी। यह लूट पूरी फिल्मी स्टाइल में हुई जहां से ज्वैलर निकला वहां से लगाकर लूट तक उसकी रेकी की गई और पल-पल की साझा करने के बाद लुटेरों ने बाइक सवार को गिरा कर लूट की वारदात को अंजाम दिया।घटना 21 जनवरी की है जब डांगियावास निवासी ताराचंद सोनी अपने गांव से हर रोज की तरह शाम को 5:30 बजे जोधपुर नांदरी इलाके में अपने शहर के घर को निकले थे जैसे ही वह देवलीया गांव के पास पहुंचे तो तीन बाइक सवारों ने उनका बैग झपट्टा मारकर छीन लिया।

उनका बाइक से संतुलन बिगड़ गया और वह नीचे गिर गए इन तीनों बदमाशों ने ताराचंद के साथ मारपीट की और रुपयों से भरा बैग और सोना लेकर भाग गए ।बनाड़ थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाने के बाद पुलिस की टीमें अलर्ट हुई जोधपुर पूर्व की डीएसटी टीम प्रभारी दिनेश डांगी और बनाड थाना अधिकारी सीताराम खोजा के नेतृत्व में टीमें गठित की गई क्योंकि ग्रामीण इलाका था वहां कोई सीसीटीवी फुटेज भी नहीं था तो टीमों के सामने सबसे बड़ी चुनौती इन बदमाशों को ट्रेस आउट करने की थी ।पुलिस की टीमों ने इस इलाके में नशेडियो की तलाश शुरू की, साथ ही आधुनिक संसाधनों और आ सूचना के आधार पर इन बदमाशों का ट्रेस आउट किया गया।

पता चला कि बाइक सवार तीनों बदमाश सुनील अनिल और सेट्ठी थे तीनों ही रामड़ावास गांव के निवासी थे सबसे पहले सुनील पुत्र हपा राम को गिरफ्तार किया और उसके बाद एक-एक कर पूरी कड़ी से कड़ी जोड़ना शुरु किया गया पुलिस की टीम के सामने आया कि सुथारों का बास डांगियावास निवासी रमेश ने ताराचंद जैसे ही घर से निकला तो उसकी रेकी करना शुरू कर दिया और उससे कुछ ही दूरी पर सरवन राम को मैसेज किया गया सरवन राम ने भी सूचना आगे ओमाराम को दी और इन सूचनाओं के आधार पर सुनील अनिल और सेट्ठी ने ताराचंद को देवरिया गांव के पास बाइक से नीचे गिरा कर लूट की वारदात को अंजाम दिया फिल्मी स्टाइल में इनकी रेकी की गई और फिर बदमाशों ने पूरी वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गए फिलहाल पुलिस अनिल और शेट्टी की तलाश कर रही है वही रमेश सरवन राम सुनील और ओमाराम को पुलिस ने पकड़ लिया है और अब उनसे गहन पूछताछ की जा रही है

ऐसे देते वारदात को अंजाम

ये सभी आरोपियो द्वारा मुँह पर सामान्यता कपडा बाँधकर मोटरसाइकिल पर सवार होकर अकेले मोटरसाईकिल चालक राहगीर को चलते हुए को टारगेट कर रोड पर उसके समान्तर अपनी मोटरसाईकिल लाकर चलती हुई मोटरसाईकिल को रूकावाकर व डरा धमका कर रूपये व सोने के आभूषण से भरा बैंग छीन कर ले जाते ।

Posted By: Sandeep Chourey