Vidhan Sabha Chunav 2019: महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शनिवार शाम 5 बजे थम गया। अब प्रत्याशी घर-घर जाकर वोट मांग सकते हैं। दोनों ही राज्यों में प्रत्याशियों की किस्मत 21 अक्टूबर, सोमवार को ईवीएम में कैद हो जाएगी। 24 अक्टूबर को काउंटिंग होगी यानी दिवाली से पहले दोनों राज्यों में नई सरकारों का गठन हो जाएगा। महाराष्ट्र में जहां भाजपा-शिवसेना गठबंधन के सामने कांग्रेस-एनसीपी का गठबंधन है, वहीं हरियाणा में मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच है। दोनों राज्यों में अभी भाजपा का मुख्यमंत्री है। पार्टी को भरोसा है कि आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद बने माहौल का फायदा उसे होगा। वहीं कांग्रेस का कहना है कि जनता भाजपा से परेशान हो गई है।

दोनों राज्यों में भाजपा और कांग्रेस समेत तमाम दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंकी। 2014 के चुनावों में हरियाणा की 90 में से 47 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज कर सरकार बनाई थी। इस बार मुख्य्मंत्री मनोहर खट्टर अपने काम के आधार पर वोट मांग रहे हैं। वहीं महाराष्ट्र में भाजपा ने 123 और शिवसेना ने 63 सीट जीतकर साझा सरकार बनाई थी।

सुखदेव ढींढसा ने रास में अकाली दल नेता पद से दिया इस्तीफा

राज्यसभा सदस्य सुखदेव ढींढसा ने शनिवार को बताया कि उन्होंने उच्च सदन में शिरोमणि अकाली दल के नेता पद से इस्तीफा दे दिया है। 82 वर्षीय ढींढसा ने कहा कि उन्होंने इस्तीफा राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू को गुरुवार को भेजा। उन्होंने इससे पार्टी को भी अवगत करा दिया है। हालांकि ढींढसा ने इस्तीफे का कारण नहीं बताया है। अकाली दल नेकहा कि उसने जून में ही राज्यसभा में नेतृत्व परिवर्तन के बारे में संसदीय मामलों के मंत्री को सूचित कर दिया था।-एजेंसी

Posted By: Arvind Dubey