Delhi Excise Policy Case: सीबीआई (CBI) ने दिल्‍ली की शराब नीति मामले में पहली गिरफ्तारी करते हुए मंगलवार को विजय नायर को अरेस्ट कर लिया है। विजय नायर आम आदमी पार्टी का कम्युनिकेशन इंचार्ज है और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का करीबी सहयोगी माना जाता है। सीबीआई ने उसे पूछताछ के लिए मुख्यालय बुलाया और फिर पूछताछ में ‘सहयोग’ नहीं करने को लेकर गिरफ्तार कर लिया। सीबीआई सूत्रों के मुताबिक उसकी भूमिका गुटबंदी और चुने हुए लाइसेंसधारियों के साथ साजिश करने में रही है। विजय नायर सीबीआई की FIR में 5 नम्बर का आरोपी है। आपको बता दें कि इसी मामले में मनीष सिसोदिया भी आरोपी हैं।

गिरफ्तारी से सामने आएगा सच?

दरअसल ईडी के नायर के ठिकानों पर छापा मारा था और उसे इस पूरे घोटाले का कथित तौर पर मास्‍टरमाइंड बताया जा रहा है। इसके बाद उससे सीबीआई ने पूछताछ शुरु की। उधर विजय नायर की गिरफ्तारी के बाद राजनीतिक बयानबाजी शुरु हो गई है। बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने कहा कि इस गिरफ्तारी से सच सामने आएगा और शराब घोटाले के दोषी बच नहीं पाएंगे। कपिल मिश्रा का दावा है कि नायर के संबंध मुख्‍यमंत्री केजरीवाल और अन्‍य मंत्रियों से हैं। शराब घोटाले से लेकर पंजाब के अवैध लेनदेन तक सारा काम नायर ही करता था।

कौन है विजय नायर?

विजय नायर को मुंबई की एक एंटरटेनमेंट और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी का पूर्व सीईओ बताया जाता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, वह Babblefish और Motherswear जैसी फर्मों से भी जुड़ा हुआ है। उसने कथित तौर पर 2019 में AAP के लिए ‘अंशकालिक स्वयंसेवक’ के रूप में कार्य किया था। सीबीआई ने अपनी प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि शराब नीति के निर्माण और कार्यान्वयन में अनियमितताएं में नायर समेत कई आरोपी लाइसेंसधारी और व्यवसायी सक्रिय रूप से शामिल थे।

Posted By: Shailendra Kumar

Assembly elections 2021
elections 2022
  • Font Size
  • Close