Weather Alert 3 and 4 July: देश में मानसूनी गतिविधियां तेज होती जा रही हैं। इस बीच, मौसम विभाग ने 3 और 4 जुलाई को महाराष्ट्र, गोवा, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, यूपी, बिहार समेत विभिन्न राज्यों में बारिश का अनुमान जारी किया है। मौसम विभाग (IMD) के अनुसार, उत्तर और दक्षिण गोवा में कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। अगले पांच दिनों के लिए मछुआरों के लिए चेतावनी जारी की गई है। वहीं मुंबई में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा होने की संभावना है। शुक्रवार को ठाणे और पालघर में अलग-अलग स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। वहीं महाराष्ट्र और इसके आसपास के क्षेत्रों में अगले 2-3 दिनों में भारी वर्षा होने के आसार हैं।

बिहार में आसमानी बिजली से 30 लोगों की मौत

बिहार में वज्रपात (आसमानी बिजली) की विभिन्न घटनाओं में 30 लोगों की मौत हो गई। गुरुवार को प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में हुए इन हादसों में समस्तीपुर के 9, पटना के 6, कटिहार के 4, पूर्वी चंपारण के 3, मधेपुरा व शिवहर के 2-2, पश्चिम चंपारण, औरंगाबाद, रोहतास व भोजपुर के 1-1 लोग शामिल हैं। वहीं राज्य सरकार ने 22 लोगों के मौत की पुष्टि की है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वज्रपात से लोगों की मौत पर गहरा शोक जताया है। उन्होंने मृतकों के आश्रितों को तत्काल चार-चार लाख रुपए का अनुग्रह अनुदान देने का निर्देश दिया है।

अगले 24 घंटों में ऐसे रहेगा देशभर का मौसम

वहीं स्कायमेट के अनुसार, अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिम बंगाल, मेघालय और असम के कुछ हिस्सों में भारी बारिश जारी रहने की संभावना है। उत्तर-पूर्वी उत्तर प्रदेश, इससे सटे बिहार, दक्षिण-पश्चिमी मध्य प्रदेश, केरल के कुछ हिस्सों, तटीय कर्नाटक और कोंकण-गोवा में हल्की से मध्यम बारिश के साथ एक-दो स्थानों पर भारी बारिश हो सकती है। उत्तराखंड, तटीय आंध्र प्रदेश, उत्तरी तमिलनाडु में हल्की से मध्यम बारिश का अनुमान है। जबकि रायलसीमा, दक्षिण आंतरिक कर्नाटक, तेलंगाना, लक्षद्वीप, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह, मराठवाड़ा, मध्य महाराष्ट्र और गुजरात क्षेत्र में कहीं-कहीं हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

रायलसीमा, मध्य उत्तर प्रदेश, ओडिशा के कुछ हिस्सों, पूर्वी मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश के आसार हैं। गंगीय पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब में हल्की बारिश हो सकती है।

इन राज्यों चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र

जानकारी के मुताबिक, गुजरात और इससे सटे भागों पर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। वहीं चक्रवाती हवाओं का एक अन्य क्षेत्र पश्चिमी राजस्थान के ऊपर बना हुआ है। यही स्थिति पूर्वी उत्तर प्रदेश में बारिश का कारण बन रही है। राजस्थान से मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ होते हुए ओड़ीशा तक एक ट्रफ बनी हुई है।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020