Weather Forecast : तेलंगाना और हैदराबाद में मूसलाधार बारिश ने जन-जीवन को बुरी तरह से प्रभावित कर दिया है। सड़कों और निचले इलाकों में पानी भर गया है। तेलंगाना सरकार ने लोगों को तब तक घर में रहने की सलाह दी है जब तक कि कोई इमरजेंसी न हो। भारतीय मौसम विभाग IMD के अनुसार उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश, तेलंगाना में मौसम बदल रहा है। समुद्री तूफान के पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और अगले 12 घंटों के दौरान एक अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव क्षेत्र में कमजोर होने की संभावना है। ताजा अनुमान यह है कि अगले दो दिन यानी 14 और 15 अक्‍टूबर को देश के कई राज्‍यों में मूसलाधार बारिश हो सकती है। अरब सागर में पहुँचने से पहले यह सिस्टम महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना, दक्षिणी छत्तीसगढ़, दक्षिणी मध्य प्रदेश और गुजरात के दक्षिणी हिस्सों में बारिश देगा। मुंबई में 14-15 अक्टूबर को अच्छी बारिश होने की संभावना है। स्काइमेट के मौसम विशेषज्ञों के आकलन के अनुसार यह सिस्टम 13 अक्टूबर, 2020 की सुबह 6:30 बजे से 7:30 बजे के बीच ज़मीनी हिस्सों पर पहुंचा। इसके असर के चलते मौसम में अचानक बदलाव देखा जा रहा है।

यहां भारी बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात

तेलंगाना और हैदराबाद में भारी बारिश के कारण हुए हादसों में 20 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। हैदराबाद के लोगों ने पिछले 20 सालों से ऐसी मूसलाधार बारिश नहीं देखी है। बताया जा रहा है कि इस तबाही का कारण बंगाल की खाड़ी में उठा दबाव है। तेलंगाना के हिस्सों में भारी बारिश के मद्देनजर 48 घंटे का अलर्ट जारी किया गया है। राज्य के मुख्य सचिव ने बताया कि सभी जिलों के प्रशासन को अलर्ट जारी कर दिया गया है। हैदराबाद के कई इलाकों में पिछले 24 घंटे में 20 सेंटीमीटर तक की बारिश दर्ज की गई है।

यहां होगी तेज बारिश

- 14-15 अक्टूबर को दिल्ली-एनसीआर में हवा का रुख बदलेगा क्योंकि बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना डिप्रेशन आगे बढ़ रहा है। इसके प्रभाव से पूर्वी हवाएँ अपना असर दिखाएंगी।

- इस समय आंध्र प्रदेश के तटीय भागों में तेज़ हवाओं के साथ मूसलाधार बारिश हो रही है। विशाखापत्तनम, नरसापुर, काकीनाड़ा समेत तटीय भागों में कम से कम अगले 6 घंटों तक मौसम खराब बना रहेगा।

- सक्रिय तूफान बंगाल की खाड़ी से आगे बढ़ते हुए डीप डिप्रेशन आंध्र प्रदेश के तटों से जमीनी भागों पर पहुँच गया है।

- डीप डिप्रेशन के लैंडफॉल के समय आंध्र प्रदेश के तटीय भागों में 55 से 65 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हवाएँ चल रही थीं। कुछ हिस्सों में हवाओं की रफ्तार 75 किलोमीटर प्रतिघंटे तक पहुँच रही थी।

- मध्य महाराष्ट्र, दक्षिणी मध्य प्रदेश, दक्षिणी छत्तीसगढ़, दक्षिणी आंतरिक ओडिशा, आंतरिक कर्नाटक, रायलसीमा के कुछ हिस्सों और तमिलनाडु में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।

- उत्तर पश्चिम भारत और पश्चिमी हिमालय के साथ-साथ पूर्वी तथा पूर्वोत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में मौसम शुष्क रहेगा।

- तटीय ओडिशा, मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों, अंडमान व निकोबार द्वीपसमूह के उत्तरी भागों, तटीय कर्नाटक और केरल में मध्यम से भारी बारिश की उम्मीद है।

- आंध्र प्रदेश, ओडिशा और तमिलनाडु के तटों के पास समुद्र में हलचल काफी बढ़ गई है। साथ ही तटों के करीब 40 से 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएँ चल रही हैं।

- बंगाल की खाड़ी पर बने डीप डिप्रेशन के आंध्र प्रदेश के तटीय भागों को 13 अक्टूबर की सुबह पार करने की उम्मीद है। इसके प्रभाव से अगले 24 घंटों के दौरान आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में भारी से अति भारी बारिश हो सकती है।

- तेलंगाना में कभी-कभी बंगाल की खाड़ी के ऊपर बनने वाले चक्रवातों के मद्देनजर भारी से मध्यम वर्षा होती है, लेकिन महाराष्ट्र के लिए, ये बारिश दुर्लभ और बेमौसम होती हैं।

- उत्तर-पश्चिमी हवाएँ अगले 2 दिनों तक जारी रहेंगी जो हरियाणा और पंजाब के साथ-साथ पाकिस्तान के मध्य भागों से दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की ओर धुएँ के कण लाएँगी। अगले 48 घंटों में प्रदूषण बढ़ने की संभावना है।

साभार: skymetweather.com

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Budget 2021
Budget 2021