Weather Update: हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में मानसून की सबसे भारी बारिश हो रही है। हिमाचल प्रदेश में 10 लोगों की मौत की सूचना है, जिनमें 2 बच्चे शामिल है। अनेक स्थानों पर मकान ढह गए हैं, कुछ लोगों के दबे होने की आशंका है, कई स्थानों पर मवेशी बह गए हैं। इसी तरह उत्तराखंड में भी बादल फटा है। इससे पहले भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के अनुसार, 19 अगस्त को सुबह 5:30 बजे से उत्तर-पश्चिम और उससे सटे बंगाल की खाड़ी के उत्तर-पूर्व में कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस कारण देश के करीब 10 राज्यों में कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। इनमें ओडिशा और गोवा मुख्य रूप से शामिल है। वहीं उत्तराखंड में भारी बारिश का दौर जारी है। बीती रात देहरादून में बादल फटने की घटना सामने आई। यहां के मालदेवता में हुई भारी बारिश के कारण 7 घर बह गए वहीं सौंग नदी पर बना पुल टूट गया। यहां जानिए अपने प्रदेश के मौसम का हाल

Image

Image

फोटो: पठानकोट की चक्की खड्ड में बाढ़ से पठानकोट-जोगिंदरनगर रेल लाइन पर बना पुल बह गया। यह पुल 1927 में बना था। रेलवे के अनुसार इस नैरोगेज रेल ट्रैक पर रेल सेवा बहाल होने में दो साल से ज्यादा का समय लग सकता है।

वीडियो: देहरादून में टपकेश्वर महादेव मंदिर के पास क्षेत्र में लगातार बारिश के बाद तमसा नदी उफान पर है। दिगंबर भरत गिरि, पुजारी, टपकेश्वर महादेव मंदिर ने बताया, मंदिर में पानी पूरी ताकत से घुसा। हम प्रार्थना करते हैं कि कोई जान-माल का नुकसान न हो। नदी पर एक पुल था जो पूरी तरह से नष्ट हो गया है।

Image

Image

Image

हिमाचल प्रदेश में बादल फटा

हिमाचल प्रदेश में मंडी के जिला कलेक्टर अरिंदम चौधरी ने बताया, कल रात मंडी के सेगली से हमें बादल फटने की स्थिति की सूचना मिली थी। जब तक हम पहुंचे, एक बड़ा भूस्खलन भी हुआ। सड़क खोलने में पीडब्ल्यूडी मदद कर रहा है। एनडीआरएफ से भी सम्पर्क किया गया है।

Image

Weather Update: इन राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

भारतीय मौसम विभाग के अनुासर, 20 से 23 तारीख तक ओडिशा में काफी व्यापक वर्षा की संभावना है। इससी दौरान पश्चिम बंगाल, सिक्किम, झारखंड, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, पूर्वी मध्य प्रदेश, पश्चिमी मध्य प्रदेश में कहीं-कहीं अति वृष्टि हो सकती है। इस बीच, भारत के पश्चिमी हिस्सों में अगले कुछ दिनों में बारिश होने की संभावना है। 20 से 22 अगस्त तक कोंकण और गोवा में, पूर्वी राजस्थान में 23 अगस्त तक, पूर्वी राजस्थान में 22 और 23 अगस्त को और मध्य महाराष्ट्र में 22 अगस्त को गरज के साथ भारी बारिश का अनुमान है। 23 अगस्त तक गुजरात और सौराष्ट्र और कच्छ में भी ऐसा ही मौसम रहने की संभावना है।

मौसम का एक पहलू यह भी....142 वर्ष में छठा सबसे गर्म रहा इस बार का जुलाई माह

पिछले छह साल से जुलाई की गर्मी वैश्विक स्तर पर बीती सदी से अधिक तेवर दिखा रही है। 2016 के बाद से हर साल जुलाई महीने का तापमान 20वीं सदी में इस माह के औसत तापमान से ज्यादा रहा है। इस साल जुलाई 142 साल में छठा सबसे गर्म माह दर्ज हुआ है, यह महीना बीते 46 साल से लगातार सामान्य से अधिक गर्म रिकार्ड हो रहा है। इसी तरह ये लगातार 451वां महीना है, जब तापमान सामान्य से ज्यादा दर्ज किया गया है। नेशनल ओसेनिक एंड एटमोस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन (एनओएए) के नेशनल सेंटर फार एन्वायर्नमेंटल इन्फार्मेशन (एनसीईआइ) द्वारा जारी आंकड़ों में ंयह चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close