Weather Alert 17 January 2020 : 22 से 25 जनवरी के बीच उत्तर भारत के पहाड़ों पर बर्फबारी और मैदानी इलाकों में कुछ स्थानों पर वर्षा होने की संभावना है। दिल्ली, हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश में भी 22-23 जनवरी से मौसम करवट ले सकता है। मौसम विभाग ने अगले तीन दिनों के लिए उत्तर भारत में कोल्ड ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। दिल्ली समेत उत्तर भारत में ठंड का प्रकोप जारी है। इससे राहत मिलने की कोई उम्मीद नहीं है। उत्तर भारत में ठंड पड़ रही है और दूसरी ओर दक्षिण भारत में भारी बारिश की आशंका है। वर्तमान मौसमी स्थितियों के अनुसार 21 जनवरी की रात तक एक नया पश्चिमी विक्षोभ उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों पर अपना प्रभाव दिखाना शुरू करेगा। तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, केरल में चक्रवाती प्रभाव के कारण अगले 2-3 दिनों तक बारिश होने की संभावना है। अनुमानों के अनुसार, उप-हिमालयी क्षेत्रों, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में घना कोहरा हो सकता है। हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और दक्षिणी असम में भी कोहरे की भविष्यवाणी की गई है। मौसम विभाग ने पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के लिए 13-16 जनवरी के बीच एक ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। आईएमडी ने उत्तरी मैदानों के लिए अगले चार दिनों के लिए शीत लहर के पूर्वानुमान के साथ एक ऑरेंज अलर्ट जारी किया है। भारी बारिश के पूर्वानुमान के साथ तमिलनाडु और पुदुचेरी के लिए भी इसी तरह का अलर्ट जारी किया गया है। स्‍कायमेट वेदर के अनुसार, बिहार में अगले चार-पाँच दिनों के दौरान दिन के तापमान के साथ-साथ रात के तापमान में भी गिरावट होगी जिससे सर्दी बढ़ने की संभावना है।

IMD के अनुसार एक चक्रवाती प्रभाव के तहत और निचले ट्रोपोस्फेरिक स्तरों में मालदीव के आस-पास के क्षेत्र, पृथक रूप से भारी बारिश हो सकती है। और मध्यम गरज के साथ काफी व्यापक वर्षा हो सकती है। अगले 2 दिनों के दौरान उत्तराखंड, पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़, पश्चिम उत्तर प्रदेश और उत्तरी राजस्थान में अलग-थलग इलाकों में कोहरे एवं सर्दी बढ़ने की संभावना है। अगले 4-5 दिनों के दौरान उत्तर पश्चिमी भारत में अलग-थलग स्थानों पर बहुत घने कोहरे की स्थिति के कारण घनी रहेगी।

17 से 21 जनवरी के बीच आएगा नया सिस्‍टम, यूपी के कई शहरों में घना कोहरा

17 जनवरी को कुछ मौसमी सिस्टमों के प्रभाव के चलते उत्तर पश्चिमी दिशा से चल रही बर्फीली हवाओं की रफ्तार पर ब्रेक लगेगी। पंजाब से बिहार तक हवाओं का रुख बदलेगा जिसके चलते 17 और 18 जनवरी को न्यूनतम तापमान बढ़ सकता है। इस सप्ताह अमृतसर, लुधियाना, पटियाला, मौगा, करनाल, अंबाला, यमुनानगर, पानीपत, सोनीपत, मेरठ, बरेली, लखनऊ, उन्नाव, कानपुर, बहराइच, प्रयागराज, वाराणसी, पटना समेत कई शहरों में घने कोहरे के चलते रेल-सड़क-हवाई यातायात प्रभावित होगा। वर्तमान मौसमी परिदृश्य यह संकेत कर रहा है कि 21 जनवरी को एक नया और सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर पर दस्तक दे सकता है जिसके चलते पहाड़ों पर बारिश और बर्फबारी शुरू होगी। 21 जनवरी को एक नया और सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ जम्मू कश्मीर पर दस्तक दे सकता है जिसके चलते हवाओं की दिशा बदलकर पूर्वी हो जाएगी। एक सप्ताह तक पहाड़ों पर जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और लद्दाख तथा मैदानी इलाकों में पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, बिहार पर दिन रात के तापमान सामान्य से नीचे बने रहेंगे।

उत्तर प्रदेश, बिहार में शीत लहर का प्रकोप

उत्तर प्रदेश में ठंड का कहर जारी है। अधिकांश शहरों में रात के तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है। राज्य के 10 शहरों में पारा 5 डिग्री सेल्सियस से नीचे चला गया है। पूर्व से पश्चिम तक ठंड का प्रकोप देखा गया है। कानपुर, बरेली, मुजफ्फरनगर और रायबरेली नैनीताल और शिमला से अधिक ठंडे थे। अगले अनुमान के अनुसार, अगले कुछ दिनों में ठंड का ऐसा ही रूप देखने को मिलेगा। हालांकि सुबह कोहरा रहेगा, लेकिन जैसे-जैसे दिन चढ़ेगा, सूरज भी निकलेगा। इस वजह से, जीवन उतना प्रभावित नहीं होगा। कश्मीर घाटी में सर्दी लगातार बढ़ रही है। पहाड़ों में बर्फबारी जारी है। ठंड के चलते श्रीनगर में बर्फबारी बढ़ गई है। कश्मीर घाटी शीत लहर की चपेट में है। झारखंड में हवाओं का प्रभाव बढ़ने से तापमान सामान्य के करीब पहुंचेगा। बिहार और झारखंड में सर्दी की वापसी हो गई है। पटना, भागलपुर समेत कई शहरों में तापमान में भारी गिरावट आई है।

यह है आगामी अनुमान

स्‍कायमेट वेदर के अनुसार, 16 जनवरी के बाद हवाओं के रुख में बदलाव होगा जिससे सर्दी से कुछ राहत मिल सकती है। हालांकि यह राहत तत्कालिक होगी। सर्दी से तत्काल राहत मिलेगी या नहीं यह अन्य मौसमी स्थितियों पर भी निर्भर करता है। वर्तमान मौसमी स्थितियां यह संकेत कर रही हैं कि सर्दी से बड़ी राहत जनवरी के आखिर या उसके बाद ही मिलने की संभावना है। मकर संक्रांति पर्व के दिन से सूर्य उत्तरायण होने लगता है जिससे दिन बड़ा होने लगता है और रातें छोटी। धूप धरती पर अधिक समय तक रहने लगती है जिससे सर्दी का मौसम उतार की तरफ अग्रसर होता है। वर्तमान मौसमी स्थितियों के अनुसार उत्तर भारत के पहाड़ों पर 16 जनवरी तक कोई सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ नहीं आने वाला जिससे उत्तरी और उत्तर-पश्चिमी सर्द हवाएं 16 जनवरी तक जारी रहेंगी। भारत के पहाड़ों से होकर आ रही बर्फीली हवाओं के कारण न सिर्फ दिल्ली बल्कि उत्तर भारत के अनेक शहरों में पारा तेजी से गिरा है। तापमान में गिरावट के साथ-साथ सुबह के समय कोहरा भी बढ़ना शुरू हुआ है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Makar Sankranti
Makar Sankranti