अब तक ठंड और बारिश की मार झेल रहे देश के ज्यादातर हिस्सों में पिछले एक हफ्ते में मौसम ने करवट बदली है। पिछले हफ्ते में बारिश ने उत्तर पूर्वी राज्य अरुणाचल व उत्तराखंड की तरफ ही गतिविधियां दिखाई वहीं देश के अन्य राज्यों में मौसम शुष्क बना रहा। लेकिन इस हफ्ते ऐसा नहीं होने वाला है। देश के उत्तर और दक्षिण दोनों में दो तरह के अलग मौसम का नजारा दिखाई देगा वहीं मध्य भारत में भी हालात कुछ ऐसे ही रहने वाले हैं। इस हफ्ते जहां उत्तर भारत में अच्छी बारिश देखने को मिल सकती है वहीं दक्षिण भारत में गर्मी अपने तेवर दिखाने वाली है।

मौसम की भविष्यवाणी करने वाली निजी एजेंसी स्कायमेट वेदर के अनुसार एक पश्चिमी विक्षोभ उत्तरी पाकिस्तान और उससे सटे जम्मू और कश्मीर पर बना हुआ है। ऐसा ही एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र उप हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम पर दिखाई दे रहा है। दूसरी ओर पश्चिमी मध्य प्रदेश पर बना विपरीत चक्रवात आगे बढ़ते हुए दक्षिणी राजस्थान के करीब पहुंच गया है।

इस वजह से अगले 24 घंटों में जम्मू-कश्मीर के अलावा लद्दाख, हिमाचल प्रदेश और अरुणाचल प्रदेश के कुछ स्थानों पर हल्की बारिश और हिमपात देखने को मिल सकता है वहीं एक और दिन के बाद पंजाब और हरियाणा में फिर से बारिश हो सकती है। इसके अलावा उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड में अब तक शुष्क मौसम था और पारा 30 डिग्री तक पहुंच गया था लेकिन अब अनुमान है कि पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड के ज्यादातर इलाकों में बारिश हो सकती है।

एजेंसी के अनुसार वेस्टर्न डिस्टर्बंस 20 फरवरी से पश्चिमी हिमालयी इलाकों पर असर डालेगा और इस वजह से एक चक्रवाती सर्कुलेशन का निर्माण उत्तर-पश्चिमी राज्यों पर होगा। इसके आगे बढ़ने के कारण अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से आने वाली हवाएं बादलों को निर्माण कारण तूफानी बारिश होने की आशंका जताई जा रही है। 21 फरवरी से पूर्वी उत्तर प्रदेश और बिहार में कुछ जगहों पर बारिश होगी वहीं 22 फरवरी को यह आगे पूर्व की तरफ बढ़ते हुए बिहार और झारखंड को भी भिगो सकती है। वहीं 24 फरवरी तक इन तीन राज्यों में जगह-जगह पर हल्की बारिश के आसार हैं। मैदानी इलाकों की बात करें तो पंजाब, हरियाणा, दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 20 से 23 फरवरी के बीच बारिश होने की संभावना है।

उत्तर भारत की बात करें तो एक कमजोर पश्चिमी विक्षोभ 18 फरवरी को नजर आएगा जबकि पहले से सक्रिय पश्चिमी विक्षोभ 20 फरवरी को उत्तर भारत के पर्वतीय राज्यों पर दस्तक दे सकता है। इस वजह से 18 फरवरी के बाद से 23 और 24 फरवरी तक जम्मू कश्मीर से लेकर हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और लद्दाख में बारिश और बर्फबारी देखने को मिलेगी।

मध्य भारत की बात करें तो महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में गर्मी की दस्तक महसूस होने लगी है। मुंबई में तो पारा 38 डिग्री तक जा चुका है। हालांकि, उम्मीद जताई गई है कि सप्ताह के अंत में इन राज्यों में बारिश हो सकती है। दूसरी तरफ दक्षिण भारत की बात करें तो यहां भी गर्मी की दस्तक देखने को मिल रही है। दक्षिण भारत के कर्नाटक में पारा बढ़ सकता है। हालांकि, 21 और 22 को राज्य के कुछ इलाकों में बारिश संभव है। Karnataka, Kerala और Andhra Pradesh में पिछले कुछ दिनों से पारा सामान्य से 3-5 डिग्री ऊपर चल रहा है। South Peninsula के ज्यादातर इलाकों में अधिकतम तापमान 30 डिग्री के बीच या ऊपर रहा है।

दक्षिण के राज्यों में फरवरी का महीना मौसम में बदलाव को होता है जो इस बार थोड़ा जल्दी नजर आ रहा है। एजेंसी के अनुसार आने वाले दिनों में बढ़ते तापमान से राहत की उम्मीद कम है और ऐसे में फरवरी अंत तक तटीय कर्नाटक, केरल और कुछ अन्य जगहों पर पारा 40 डिग्री तक आसपास जा सकता है।

Posted By: Ajay Barve