चमोली। भारत-चीन सीमा पर हुई बर्फबारी से जवान सैनिकों को मुश्किलोंं का सामना करना पड़ा और भारी ठंड में सीमा पर पहरा देना पड़ रहा है। बदरीनाथ के श्रद्धालुओं भी बर्फबारी के दिक्कतें का सामना करना पड़ रहा है। गमशाली हाइवे भारत-चीन को जोड़ने वाला हाइवे बारी बर्फबारी से रास्ते बंद हो गये हैंं। भारत-तिब्बत सीमा पर पुलिस और सेना को मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है। अधिक बर्फबारी के कारण रास्ते से जेसीबी से बर्फ हटाई जा रही है। हालांकि,रुक-रुककर बर्फबारी होने से गमशाली हाइवे में वाहनों का आने जाने का रास्ते फिलहाल ठप हो गये है। जनता को आने जाने मेंं बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। चमोली जिले की घाटी भारत-चीन सीमा से लगी है जो की सेना और आइटीबीपी का पहरा सालभर रहता है। ठंड के समय में भी जब यहां लोगों का आना जाना बंद हो जाता है। जब भी जवान सीमा की सुरक्षा के लिए पहरा देते हैंं।

आज बढ़ सकती है बर्फबारी

उत्तराखंड में हल्की वर्षा से सर्दी बढ़ गई निचले स्थानों में और कहा जा रहा है कि राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पिथौरागढ़, चमोली और उत्तरकाशी मेंं मंगलवार और बुधवार को बर्फबारी की संभावना है। यह संभावना तीन हजार मीटर तक की ऊंचाई वाले इलाकों की है।

उत्तराखंड में बदलते मौसम से सर्दी कि आहट सुनाई दे रही है। भारी बर्फबारी होने के कारण केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के कपाट बंद हो चुके और जबकि बताया जा रहा है कि 17 नवंबर को बदरीनाथ के कपाट बंद किया जाना तय है। नगर पंचायत ने बदरीनाथ धाम में बढ़ती सर्दी को देखते हुए बदरीनाथ धाम पहुंच मार्ग पर अलाव का इंतजाम किया है। यह इंतजाम करीब 10 स्‍थानों पर रहेगा।

Posted By: Navodit Saktawat