मल्टीमीडिया डेस्क। WhatsApp Group Delete : व्हाट्सएप एक बार फिर से चर्चा में है। दरअसल, कश्मीर में रहने वाले लोग इस प्लेटफॉर्म पर ग्रुप चैट से गायब होने लगे हैं। कई उपयोगकर्ताओं ने घाटी में मौजूदा स्थिति को देखते हुए सोशल मीडिया पर अपनी चिंताओं के बारे में जानकारी दी। बीते चार महीनों से घाटी में इंटरनेट सुविधा बंद है। व्हाट्सएप ने स्पष्ट किया है कि लंबे समय से निष्क्रिय रहने की वजह से ग्रुप चैट से लोग गायब हो रहे हैं। प्रभावित यूजर्स में से कुछ ने अपने अकाउंट के डेटा, जिसमें चैट लॉग, तस्वीरें और वीडियो शामिल है, उसे स्थायी रूप से खो जाने की आशंका है जो खाता निष्क्रिय होने से 30 दिनों में डेटा का बैकअप नहीं ले पाते हैं।

इस सप्ताह कई लोगों ने यह रिपोर्ट किया था कि उनके कई कश्मीरी संपर्क अचानक उनके व्हाट्सएप ग्रुपों को छोड़ रहे हैं। चार अगस्त की रात के बाद से कश्मीर घाटी में इंटरनेट सेवाएं पूरी तरह से बंद होने के बाद उन्हें यह अजीब लगा क्योंकि वे समूहों को छोड़ने के लिए इंटरनेट का उपयोग कैसे कर पा रहे थे। लिहाजा, यह सवाल उठा कि वे ग्रुप को कैसे छोड़ रहे हैं।

@facebook @WhatsApp @UNGeneva @UNHumanRights ने ट्विटर पर लिखा- अचानक मेरे सभी कश्मीरी कॉन्टेक्ट्स व्हाट्सएप ग्रुप को छोड़ने लगे और उनके व्हाट्सएप अकाउंट बंद हो रहे थे। यहां यह याद रखने वाली बात है कि कश्मीर में बीते चार महीने से इंटरनेट कनेक्शन नहीं है। ये किस तरह का भयावाह कदम है। कुछ लोगों ने अंदेशा जाहिर किया था कि कुछ खास कश्मीरी लोगों के व्हाट्सएप अकाउंट को डिलीट किया जा रहा है। हालांकि, व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने बताया कि अचानक लोगों के खातों का गायब होने की चिंता, दरअसल कंपनी की उस नीति का नतीजा है, जिसके तहत निष्क्रिय खातों को बंद कर दिया जाता है।

प्रवक्ता ने एक बयान में कहा कि व्हाट्सएप यूजर को अपने दोस्तों और प्रियजनों से निजी संवाद करने का प्लेटफॉर्म देता है। हालांकि, सुरक्षा के लिहाज से व्हाट्सएप खाते को आमतौर पर 120 दिनों तक निष्क्रिय रहने के बाद हटा दिया जाता है। जब ऐसा होता है, तो वे खाते से जुड़े अपने सभी व्हाट्सएप ग्रुप से हट जाते हैं। इंटरनेट की सुविधा फिर से मिलने के बाद व्हाट्सएप से जुड़ने पर लोगों को ग्रुप में फिर से जोड़ना होगा।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai

fantasy cricket
fantasy cricket