COVID-19: देश में कोरोना की दूसरी लहर ने हर जगह तबाही मचा के रखी थी, जहां देखो वहां कोविड-19 से आम जन त्रस्त था। लेकिन जिस रफ्तार से कोरोना देश में फैल रहा था, अब उसी रफ्तार से इसके मामलों में कमी देखने को मिल रही है। हाल के दिनों में कोविड-19 के नए संक्रमण के मामलों की संख्या में गिरावट देखी गई है। लेकिन इस बात ने सभी को हैरानी में डाल दिया है कि जब कोविड संक्रमण के मामलों में कमी देखी जा रही है तो फिर मृत्युदर की संख्या में इजाफा क्यों?

थमें संक्रमण के नए मामलों के बावजूद अधिक मृत्युदर को लेकर मंगलवार विशेषज्ञों ने कहा कि ज्यादातर मौतें, जो अब हो रही हैं, ऐसे मामले हैं जिन्हें मई के अंतिम सप्ताह में आईसीयू में भर्ती कराया गया था। पिछले 24 घंटो में 60,461 नए मामले रिकाॅर्ड किए गए हैं। केन्द्रीय स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा मंगलवार को जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में 2,726 लोगों ने वायरस के कारण दम तोड़ दिया है। इसके साथ ही भारत में रोज के कोविड के कुल मामले में गिरावट जारी है, जो 29 मार्च के बाद सबसे कम है।

देश में कुल मौतें के साथ कोविड मरीजों की संख्या

इस महामारी से पूरा देश क्षतिग्रस्त हुआ है। देश में अब तक कुल 3,77,031 मौतों के साथ कोविड-19 मामलों की कुल संख्या 2,95,70,871 हो गई है। देश में इस समय कर्नाटक ही ऐसा क्षेत्र है जहां ससबे ज्यादा सक्रिय मामले 1,80,856 देखे जा सकते हैं। महाराष्ट्र राज्य में 1,58,617 और तमिलनाडू में 1,49,927 है। देश के इन तीनों राज्यों में सक्रिय मामलों का लगभग 50 फीसदी हिस्सा है। देश के अलग-अलग हिस्से के चिकित्सा विशेषज्ञों ने अधिक मृत्यु दर के बारे में कुछ विशेष बातें बताई हैं।

बैंगलुरू में मणिपाल अस्पताल, जयनगर सलाहकार चिकित्सक अरविंदा जीएम ने आईएएनएस को बताया कि ‘‘हमारा कोविड-19 चरम मई 2021 के दूसरे सप्ताह में था। इस दौरान एमआईसीयू में भर्ती सबसे ज्यादा थी। इसलिए अब जो मौतें हो रही हैं, उनमें से अधिकांश ऐसे मामले है जिन्हें एमआईसीयू में दो से तीन सप्ताह पहले भर्ती कराया गया था।

शालीमार बाग स्थित एचओडी, पल्मोनोलाॅजी और फोर्टिस अस्पताल के निदेशक, विकास मौर्य का इस संदर्भ में कहना है कि ‘‘इस बार बीमारी की गंभीरता भी बहुत अधिक थी। यानी फेफड़ों की बहुत गंभीर बीमारी थी। ये मामले लंबे समय तक आईसीयू में थे। अब मामलों की संख्या भी कम है। लेकिन इन मामलों में मृत्युदर बहुत अधिक है। भारत में संक्रमण के मामलों में रोजाना 85 फीसदी की कमी देखी गई है।

अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ

दुनिया की अगर बात करें तो सबसे अधिक मामलों और मौतों की संख्या 33,473,180 और 599,928 के साथ अमेरिका सबसे ज्यादा प्रभावित देश बना हुआ है। वहीं भारत की अगर बात करें तो संक्रमण के मामले में 29,510,410 मामलों के साथ दूसरे स्थान पर है। मृत्युदर की अगर बात करें तो ब्राजील 488,228 मौतों के साथ दूसरे पायदान पर है। तो वहीं 374,305 मौतों के साथ भारत तीसरे नम्बर पर है।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags