Who is Teesta Setalvad: गुजरात पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) ने एनजीओ चलाने वाली तीस्ता सीतलवाड़ को शनिवार दोपहर बाद मुंबई स्थित उनके घर से हिरासत में ले लिया। सीतलवाड़ पर आरोप है कि वे अपना हित साधने की गरज से गुजरात दंगों से संबंधित जकिया जाफरी की याचिका में दिलचस्पी लेती रहीं और तथ्यों को मन मुताबिक गढ़ती रहीं। ताजा खबर यह है कि रविवार सुबह तीस्ता को लेकर गुजरात पुलिस अहमदाबाद पहुंच गई हैं। आज ही उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। इसके अलावा गुजरात पुलिस ने पूर्व पुलिस अधिकारी आरबी श्रीकुमार को गिरफ्तार कर लिया है। गुजरात के एक अन्य पुलिस अधिकारी संजीव भट्ट के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है। माना जा रहा है कि गुजरात पुलिस तीनों को एक साथ लाकर पूछताछ कर सकती हैं।

वीडियो: अहमदाबाद सिविल अस्पताल में Teesta Setalvad का मेडिकल चेकअप किया गया। अब उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। गुजरात ATS की कोशिश 14 दिन की कस्टडी हासिल करने की है।

Who is Teesta Setalvad: मोदी को दोषी बताने वालों में थीं तीस्ता

2002 में गुजरात के गोधरा स्टेशन पर अयोध्या से लौट रही साबरमती एक्सप्रेस के दो डिब्बे उपद्रवियों द्वारा जलाए जाने के बाद दंगे भड़क उठे थे। इन दंगों में हिंदू और मुसलमान दोनों समुदायों के लोग बड़ी संख्या में हताहत हुए थे। इसी दंगे में कांग्रेस नेता एहसान जाफरी की भी मौत हो गई थी। एक वर्ग द्वारा इन दंगों के लिए गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित भाजपा के कई और नेताओं को दोषी ठहराया जा रहा था। तीस्ता सीतलवाड़ इस वर्ग का नेतृत्व करने वालों में से एक थीं।

गिरफ्तारी की कहानी, खुद को बाथरूम में बंद कर लिया था तीस्ता ने

तीस्ता सीतलवाड़ के पति जावेद आनंद ने बताया कि शनिवार सुबह सीआइएसएफ के नोएडा मुख्यालय से उनके पास यह जानने के लिए फोन आया कि इस समय तीस्ता को किस एजेंसी की सुरक्षा मिली हुई है? उनके पास पहले सीआइएसएफ की ही सुरक्षा थी। वह सुरक्षा हट जाने के बाद उन्हें मुंबई पुलिस की सुरक्षा प्राप्त हो गई थी। जावेद के अनुसार, शनिवार दोपहर बाद सीतलवाड़ के पड़ोस में रहने वाले केंद्रीय मंत्री नारायण राणे की सुरक्षा में लगे दो व्यक्तियों ने आकर पूछा कि क्या तीस्ता घर पर हैं? इसके कुछ देर बाद ही 3.45 बजे गुजरात पुलिस पहुंच गई। उसके पास कोई वारंट नहीं था, सिर्फ एफआइआर की प्रति थी। जावेद ने बताया, गुजरात पुलिस को देखते ही हमने अपना दरवाजा बंद कर लिया। कहा कि हम अपने वकील के आने के बाद ही बात करेंगे। तीस्ता ने खुद को बाथरूम में बंद कर लिया। इसके बावजूद एक महिला पुलिस के साथ घर में घुसे एक सिपाही ने तीस्ता के साथ अभद्रता की और उन्हें जबरन गाड़ी में बैठाकर पुलिस थाना ले गए।

अभी कहां हैं संजीव भट्ट

पूर्व आइपीएस अधिकारी संजीव भट्ट फिलहाल पालनपुर की जेल में बंद हैं। हिरासत में मौत के एक मामले में वे आजीवन कारावास की सजा काट रहे हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि अहमदाबाद पहुंचने के बाद तीस्ता को गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close