दिल्ली में ठंड इस बार नित नए रिकॉर्ड बना रही है। अक्टूबर की ठंड ने 58 सालों का रिकॉर्ड तोड़ा तो अब नवंबर में हर रोज पिछले 10 सालों का रिकॉर्ड टूट रहा है। एक, दो नवंबर के बाद तीन नवंबर को भी 2010 के बाद से सबसे ठंडी सुबह दर्ज हुई है। आलम यह रहा कि मंगलवार को दिल्ली की सुबह मसूरी, धर्मशाला, मंडी और डलहौजी से भी ठंडी रही। इस सप्ताह के आखिर तक न्यूनतम तापमान में यह गिरावट एक अंक में चले जाने के आसार हैं। मौसम विभाग का अनुमान है कि अक्टूबर के बाद नवंबर भी बीते सालों में सर्वाधिक ठंडा साबित हो सकता है। अगर न्यूनतम तापमान इसी तरह गिरता रहा तो एक दो दिन में मौसम विभाग शीत लहर की घोषणा भी कर सकता है।

मौसम विभाग के मुताबिक, मंगलवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री कम 10.0 डिग्री सेल्सियस रहा। 2011 से लेकर अभी तक तीन नवंबर की तारीख का यह सबसे कम तापमान है। मालूम हो कि सोमवार को न्यूनतम तापमान 10.8 और रविवार को 11.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। यानी नवंबर में हर रोज ही ठंड नया रिकॉर्ड बना रही है। पहले जो ठंड दिसंबर में पड़ा करती थी, वैसी ठंड इस साल नवंबर में ही महसूस हो रही है।

प्रादेशिक मौसम विज्ञान केंद्र, दिल्ली के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि इतना कम तापमान जाने और ठंड बढ़ने की मुख्य वजह इन दिनों आसमान का साफ रहना है। बादल बिल्कुल नहीं हैं। उन्होंने कहा कि अक्टूबर के बाद नवंबर का महीना भी अत्यधिक ठंड को लेकर पिछले कुछ सालों का रिकॉर्ड तोड़ सकता है।

वहीं स्काईमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत ने बताया कि पिछले तीन-चार दिनों के दौरान हिमालय क्षेत्र में बर्फबारी हुई है। उसकी ठंडक भी दिल्ली पहुंच रही है। बुधवार को भी कमोबेश ऐसा ही मौसम बना रहेगा।

बॉक्स

हिल स्टेशन से भी ज्यादा ठंड

स्थान न्यूनतम तापमान (डिग्री सेल्सियस)

मसूरी 10.4

मंडी 10.2

धर्मशाला 10.6

डलहौजी 10.9

दिल्ली 10.0

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Makar Sankranti
Makar Sankranti