World Toilet Day 2019: मोदी सरकार ने भारत को खुले में शौच मुक्त करने का जो संकल्प लिया था, वो पूरा हो गया है। लोगों में भी इस संवेदनशील विषय को लेकर जागरुकता बढ़ी है। सरकार ने कोई कसर नहीं छोड़ी, तो जनता ने भी पूरा साथ दिया। स्वच्छ भारत मिशन की वेबसाइट के अनुसार, 2 अक्टूर 2014 से अब तक 10,13,59,525 शौचालय बनाए जा चुके हैं। देश के सभी 36 राज्य और केंद्रशासित प्रदेश खुले में शौच से मुख्त घोषित किए जा चुके हैं। जाहिरतौर पर खुले में शौच या अस्वच्छता से होने वाली बीमारियों में भी कमी आई है। अब देश स्मार्ट टॉयलेट्स की ओर बढ़ रहा है। देश-दुनिया में नए-नए प्रयोग किए जा रहे हैं और टॉयलेट्स् को एडवांस तथा डिजिटल बनाया जा रहा है, ताकि इस पूरे अभियान को नई ऊंचाई तक पहुंचाया जा सके। जानिए ऐसे ही स्मार्ट प्रोजेक्ट्स के बारे में -

टॉयलेट में लगेंगे सेंसर, गंदगी होने पर देंगे संकेत

तेलंगाना के वारंगल में स्मार्ट टॉयलेट स्थापित किया जा रहा है, जिसमें सेंसर लगे होंगे। ये सेंसर गंदगी होने पर नगर निगम तक संकेत पहुंचा देंगे और कर्मचारी आकर तत्काल सफाई कर देंगे। यह अत्याधुनिक टॉयलेट पुणे स्थित स्मार्ट लू सॉल्यूशन्स ने तैयार किया है।

सेल्फ क्लीनिंग टॉयलेट

चेन्नई में देश के पहले सेल्फ क्लीनिंग टॉयलेट लगाए जा चुके हैं। यह देश में अपने तरह का पहला प्रोजेक्ट था, जिसे 180 सेल्फ क्लीनिंग पब्लिक ई-टॉयलेट्स के साथ 2016 में लांच दिया था। eToilet ऐप पर इन टॉयलेट्स की पूरी जानकारी है। जैसे - टॉलटेस की लोकेशन क्या है, साफ है या नहीं, पानी उपलब्ध है या नहीं। ये स्मार्ट टॉयलेट यूज होने से पहले और बाद में खुद को अपने-आप साफ करते हैं।

स्मार्ट टॉयलेट जो बचाता है पानी

स्मार्ट टॉयलेट बनाने में देश-विदेश की निजी कंपनियां भी काम कर रही हैं। ऐसे टॉयलेट डिजाइन किए जा चुके हैं, जिनमें इन-बिल्ड स्पीकर्स, एफएम रेडियो हैं। यहां टच स्क्रीन रिमोट और हैंड फ्री एप्लिकेशन्स लगाए गए हैं। ये टॉयलेट सबसे बड़ा काम पानी बचाने का करते हैं। आमतौर पर एक फ्लश में 1.6 से 2 गैलन पर फ्लश (जीपीएफ) पानी खर्च होता है, लेकिन ये टॉयलेट महज 0.6 जीपीएफ पानी खर्च करते हैं।

टॉयलेट शीट में लगा कंट्रोल पैनल

एक अन्य तरह के टॉयलेट शीट में कंट्रोल पैनल लगा है जहां बटन दबाते ही सारे काम हो जाते हैं। बटन दबाने पर ही फ्लश होता है और ड्रायल काम करता है। इसमें फ्रंट और रियल स्प्रे की सुविधा है। गर्म और सामान्य पानी के ऑप्शन्स भी हैं।

Posted By: Arvind Dubey