मल्टीमीडिया डेस्क। मानसून सही गति से आगे बढ़ रहा है और चक्रवाती तूफान वायु के कारण गुजरात तथा महाराष्ट्र् में भारी बारिश की आशंका जताई गई है, लेकिन देश का एक हिस्सा भीषण गर्मी से जूझ रहा है।

भारतीय मौसम विभाग के अनुसार उत्तर प्रदेश के बांदा में अधिकतम तापमान 49.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। यूपी के झांसी, राजस्थान के चुरू और बीकानेर, हरियाणा के हिसार और भिवानी, पंजाब के पटियाला तथा मध्यप्रदेश के ग्वालियर और भोपाल में पारा 45 डिग्री पर बना हुआ है।

राजधानी दिल्ली में तो सोमवार को तापमान 48 डिग्री पहुंच गया और इस तरह यह दिल्ली के इतिहास में जून का सबसे गर्म दिन रहा। मौसम वैज्ञानिकों के मुताबिक, 2019 देश के इतिहास में सबसे लंबे समय तक लू का सामना करने वाला साल बन रहा है। इस साल लगातार 32 दिनों तक भीषण लू चली है। इससे पहले 1988 में 33 दिन और 2016 में 32 दिन तक लू चली थी।

मौसम विभाग की परिभाषा के मुताबिक, जब मैदानी इलाकों में लगातार 40 डिग्री और पहाड़ों पर 30 डिग्री तापमान हो तो उसे लू माना जाता है। मालूम हो, भीषण गर्मी के कारण मंगलवार को केरल एक्सप्रेस में सवाल चार बुजुर्ग यात्रियों की मौत हो गई है। यह घटना झांसी की है, जहां लगातार 45 डिग्री पारा बना हुआ है। पुणे में मौसम विभाग के वैज्ञानिक डीएस पई के मुताबिक, 1991 से अब तक लू तीन गुना बढ़ गई है।

देश में 1901 से मौसम संबंधी आंकड़े जुटाए जा रहे हैं और 2018 अब तक का सबसे गर्म साल रहा था, जो रिकॉर्ड इस बार टूटने जा रहा है। पिछले हफ्ते दुनिया के सबसे गर्म 15 स्थानों में 11 भारत में थे। बाकी पड़ोसी देश पाकिस्तान के नाम थे।

दुनियाभर के वैज्ञानिकों का कहना है कि गर्मी लगातार बढ़ रही है और आने वाले सालों में राहत की उम्मीद नहीं है। पिछले साल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने लोकसभा में बताया था कि 2010 से अब तक गर्मी के कारण देश में 6000 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है।

Posted By: Arvind Dubey