Yasin Malik Punishment: जम्मू-कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के प्रमुख यासीन मलिक को टेरर फंडिंग के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। कुछ देर पहले ही यासीन को हवालात से कोर्टरूम लाया गया था। उसे बैठने के लिए चेयर दी गई। यासीन मलिक की सजा पर दोपहर 3.30 बजे फैसला आना था। फिर इसे 4 बजे तक टाल दिया गया। अब फैसला आ गया है।

यासीन मलिक को टेरर फंडिंग के दो मामलों में उम्रकैद की सजा मिली है। मलिक पर 10 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया गया है। सभी सजाएं साथ-साथ चलेंगी।इस बीच कोर्ट के बाहर लोग तिरंगा लेकर पहुंच गए। श्रीनगर के पास मैसुमा में यासीन मलिक के घर के पास समर्थकों और पुलिस के बीच झड़प की खबर सामने आई है। यहां पत्थरबाजी के बाद हालात काबू करने के लिए सुरक्षाकर्मियों को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। मलिक के घर के आसपास सुरक्षाबल के जवान तैनात हैं। ड्रोन से इलाके की निगरानी की जा रही है।

यासीन मलिक को करीब सवा 11 बजे कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट लाया गया। सुनवाई के शुरू में ही NIA ने फांसी की सजा की मांग की। इसके बाद जज ने दोपहर 3.30 बजे तक के लिए फैसला सुरक्षित कर रख लिया। पिछली सुनवाई में आतंकी फंडिंग के लिए गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम अधिनियम (यूएपीए) के तहत सभी आरोपों का दोषी ठहराया गया था। खुद Yasin Malik ने जुर्म कबूल लिया है। यासीन मलिक की सजा से पहले श्रीनगर के कुछ हिस्सों में आंशिक बंद देखा जा रहा है।

विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह ने 19 मई को मलिक को दोषी ठहराया था और एनआईए अधिकारियों को उनकी वित्तीय स्थिति का आकलन करने का निर्देश दिया था ताकि जुर्माना की राशि निर्धारित की जा सके।

Yasin Malik Punishment: इमरान खान ने बताया स्वतंत्रता सैनानी

यासीन मलिक पर भारत में केस चला और कानूनन सजा दी जा रही है, लेकिन पाकिस्तान को यह रास नहीं आ रहा है। पाकिस्तान के नेता लगातार यासीन मलिक के पक्ष में बयानबाजी कर रहे हैं। पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने तो यासीन मलिक को फ्रीडम फाइटर बताया है। इमरान खान के मुताबिक, यासीन मलिक को सभी आतंकी करार नहीं दिया जा सकता है। इमरान खान ने दुनिया के अन्य देशों से भी अपील की कि वे यासीन मलिक के खिलाफ भारत सरकार की कार्रवाई का विरोध करे।

खबर अपडेट हो रही है...

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close