Covid-19: देश इस वक्त कोरोना महामारी के महासंकट से गुजर रहा है। कोरोना संक्रमण के शिकार मरीजों की संख्या 42 हजार को पार कर चुकी है। स्वास्थ्य मंत्रालय इस मुश्किल हालात से निपटने के लिए लगातार नए कदम उठा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा बीते 1 महीने से ज्यादा दिनों से लॉकडाउन घोषित किया गया है। इस बीच अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) ऋषिकेश ने कोरोना वायरस संक्रमण से निपटने के लिए एक घड़ी रूपी डिवाइस तैयार किया है। जिसे उत्तराखंड के राज्य पक्षी मोनाल का नाम दिया गया है। सोमवार को एम्स में सभी प्रमुख चिकित्सकों की मौजूदगी में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस इलेक्ट्रॉनकि डिवाइस का उद्घाटन किया।

कोरोना लक्षण मिलने पर देंगे डिवाइस

AIIMS ऋषिकेश के डायरेक्टर प्रोफेसर रविकांत ने बताया कि जिस किसी व्यक्ति को AIIMS की कोविड-19 ओपीडी में कोरोना से संबंधित प्राथमिक लक्षण मिलते हैं उन्हें यह डिवाइस उपलब्ध कराई जाएगी। इस डिवाइस के जरिए संबंधित व्यक्ति अपने घर में रहकर एम्स के चिकित्सकों के संपर्क में रहेगा।

इस लक्षणों पर डिवाइस रखेगा नजर

AIIMS द्वारा तैयार किए गए इस खास डिवाइस में ऐसी चिप लगी है जो कोरोना के लक्षणों वाले मरीज के दिल की धड़कनों, सांस की गति, ऑक्सीजन की मात्रा व अन्य सभी गतिविधियों की जानकारी देती रहेगी। यह डिवाइस इंटरनेट में 2G स्पीड के जरिए संचालित किया जा सकता है। AIIMS डायरेक्टर रविकांत ने बताया कि मोबाइल और वीडियो के जरिए मरीज के साथ संवाद कायम करना आसान होगा। यदि किसी मरीज में कोविड-19 लक्षण बढ़ जाते हैं तो उन्हें जरूरी जांच के बाद AIIMS की संबंधित यूनिट में रखा जाएगा। उनके अनुसार यह कदम इसलिए उठाया गया है कि किसी व्यक्ति के एम्स आने के बाद अनावश्यक संक्रमण के खतरे को टाला जा सके।

कम कीमत में तैयार हो जाएगा उपकरण

कोविड-19 के नोडल अधिकारी डॉ मधुर उनियाल के अनुसार इस डिवाइस को बहुत ही कम कीमत पर और पर्याप्त संख्या में तैयार किया जा सकेगा। इस बीच वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के जरिए सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने AIIMS निदेशक और चिकित्सकों से संवाद किया और AIIMS में उपजे हालात पर चर्चा भी की।

उत्तराखंड में हालात सुधरे

उत्तराखंड में कोरोना के चलते हालातों में बहुत सुधार आ गया है। राज्य का अब सिर्फ एक जिला ही रेड जोन में रह गया है। पूर्व में तीन जिले रेड जोन में थे लेकिन अब सिर्फ हरिद्वार ही रेड जोन में रह गया है। देहरादून और नैनीताल रेड जोन से निकल ऑरेंज जोन में आ गए हैं।

Posted By: Neeraj Vyas

  • Font Size
  • Close