अयोध्या में भगवान श्री राम के भव्य मंदिर की तैयारियां चल रही हैं। शुरुआत 5 अगस्त को अभिजीत मुहूर्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए जाने वाले भूमि पूजन से हो रही है। इसके साथ ही भगवान राम के सबसे बड़े मंदिर का श्रीगणेश हो जाएगा। मंदिर निर्माण होने पर दुनियाभर से श्रद्धालु यहां आकर अपने आराध्य देव राम लला के दर्शन करेंगे। वैसे प्रभु श्रीराम का पूरा जीवन सबके सामने हैं कि आखिर क्यों उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम कहा जाता है। भगवान राम ने दुनिया को मर्यादा का पाठ पढ़ाया और जीवन में सफल होने का मंत्र दिया। यह मंत्र आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं। यानी भगवान श्री राम के जीवन से जुड़ी कुछ बातों को अपना आज भी हर कोई सफल हो सकता है।

1. आज्ञाकारी: भगवान राम शुरू से आज्ञाकारी और सेवाभावी रहे। राजमहल में रहे तो माता-पिता और शिक्षा हासिल करने गए तो गुरुजन की हर बात मानी। साथ ही प्रभू श्री राम की सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि वे सहनशील रहे। जीवन में अनेकानेक परेशानियों का सामना किया, लेकिन कभी भी धैर्य नहीं खोया। माता कैकेयी ने आज्ञा दी तो 14 साल के वन के लिए चल पड़े। एक राजा के पुत्र होते हुए भी जंगल की कठिनाइयों में जीवन गुजारना पड़ा, लेकिन माथे पर कभी शिकन नजर नहीं आई।

2. धैर्यवान: मुश्किल परिस्थितियां हर किसी के जीवन में आती हैं, लेकिन धैर्य रखा जाए तो अच्छा समय भी जल्द लौट आता है। भगवान राम के जीवन की सीख आज के युवाओं के लिए बहुत काम की है। रामायण में हमने देखा कि भाई लक्ष्मण बात-बात पर उत्तेजित हो जाते थे, गुस्सा हो जाते थे, लेकिन प्रभु राम चेहरे पर मुस्कान के साथ शांत रहते थे।

3. सबको साथ लेकर चले: भगवान राम ने वन से लेकर राजपाठ चलाने तक में सभी को साथ लेकर चलने का उदाहरण पेश किया है। वन में सुग्रीव, हनुमान समेत पूरी वानर सेना को साथ लेकर लंका विजय हासिल कर ली, तो राजा बनने के बाद अपने भाइयों को साथ लेकर जनता की भलाई के लिए कार्य किए। तभी रामराज स्थापित हो सका।

4. रिश्तों की अहमियत: भगवान राम ने हमेशा रिश्तों को अहमियत दी। माता कैकेयी ने वनवास का आदेश दिया तो भी उनसे नाता नहीं तोड़ा। जंगल में जो मिला, उसे दोस्त बनाया और दोस्ती आखिरी तक निभाई ,चाहे सुग्रीव हों या विभीषण। राजा बनने के बाद सौतेली मां के भाइयों को भी हमेशा साथ रखा।

5. अहंकार से दूर: भगवान राम की शक्ति असीम थी, लेकिन उन्होंने कभी अहंकार नहीं किया। उल्टा अहंकार करने वालों को सबक सिखाया। चाहते तो रावण का एक ही बार में अंत कर देते, लेकिन उन्होंने उसे कई मौके दिए, जब नहीं माना तो अपना पराक्रम दिखाया।

LIVE Ram Mandir Bhoomi Pujan : संबंधित खबर पढ़ने के लिए हैडिंग पर क्लिक करें

दूरदर्शन पर राम मंदिर पर भूमि पूजन का सीधा प्रसारण, अपने मोबाइल पर यहां देखें

Ram Mandir Bhumi Pujan से पहले PM Modi लगाएंगे पारिजात का पौधा, जानिए क्या है इसका महत्व

सोशल मीडिया में आई बधाईयों की बाढ़, लोग मना रहे दिवाली, कर रहे यह अपील

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020