अयोध्या। अयोध्या राम मंदिर जमीन विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने शनिवार को एतिहासिक फैसला सुनाते हुए विवादित जमीन रामलला विराजमान को सौंपते हुए मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ जमीन किसी अन्य जगह पर देने का आदेश दिया है। सर्वोच्च न्यायालय ने अपने फैसले में केंद्र सरकार को निर्देश दिए हैं कि तीन महीने में ट्रस्ट बनाकर राम मंदिर निर्माण की रुपरेखा तय करे। कोर्ट के इस आदेश के बाद अब भगवान राम के भक्तों के बीच उत्साह है कि सालों से मंदिर निर्माण का उनका सपना पूरा हो सकेगा।

अयोध्या में बनने वाला मंदिर भव्य होगा और इसकी सारी तैयारियां पहले ही पूरी हो चुकी हैं। अयोध्या में स्थित राम मंदिर कार्यशाला में मंदिर निर्माण का सामान काफी पहले पहुंच चुका है और अब बचा है तो सिर्फ मंदिर निर्माण का कार्य शुरू होना। आप भी अगर जानना चाहते हैं कि यह मंदिर कैसा होगा तो हम आपको बताते हैं कि इस भव्य मंदिर निर्माण की संभावित बनावट कैसी होगी।

106 स्तंभों पर आकार लेगा 128 फीट ऊंचा राम मंदिर

अयोध्या में विश्व हिंदू परिषद द्वारा प्रस्तावित मंदिर 265 फीट लंबा, 140 फीट चौड़ा और 128 फीट ऊंचा होगा। मंदिर की दीवारें छह फीट मोटे पत्थर से बनी होंगी वहीं चौखट को सफेद संगमरमर से बनाया जाएगा। मंदिर निर्माण के लिए पत्थर तराशने के काम जारी है और अब तक तो इतनी तैयारी हो चुकी है कि काम शुरू होते ही मंदिर के प्रथम तल का निर्माण बिना रुके पूरा हो जाए। मंदिर के जो मॉडल बनाया गया है उसका निर्माण 1989 में अहमदाबाद के आर्किटेक्ट चंद्रकांत भाई सोमपुरा ने तैयार किया था।

इस मॉडल को देखें तो इसमें भगवान राम का प्रस्तावित मंदिर दो मंजिला है जिसके प्रत्येक तल पर 106 स्तंभ लगने हैं। भूतल के स्तंभ 16.5 फीट ऊंचे हैं। इन स्तंभों के ऊपर तीन फीट मोटे पत्थर की बीम और एक फीट मोटे पत्थर की छत होगी। ऊपर की मंजिल के स्तंभ 14.5 फीट ऊंचे हैं। इसके बाद बीम, छत व शिखर होगा।

भूतल पर भगवान राम विराजमान होंगे और पहली मंजिल पर उनका दरबार बनेगा। मंदिर में लगने वाले खंभों में मूर्तियां उकेरी जाएंगी। मंदिर में कुल 24 दरवाजे होंगे।

Posted By: Ajay Barve