Balakot Airstrikes 1st Anniversary : 14 फरवरी 2019 को आतंकी संगठन ने पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था, जिसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। इसके एक दिन बाद नई दिल्ली ने इस स्थिति के बारे में 25 देशों के दूतों को जानकारी दी थी। उसी दिन, भारत ने पाकिस्तान के उच्चायुक्त सोहेल महमूद को भी हमले का कड़ा विरोध दर्ज कराने के लिए बुलाया। श्रीनगर स्थित 15 कोर के जीओसी इन चीफ लेफ्टिनेंट जनरल कंवल जीत सिंह ढिल्लों ने पाकिस्तान को कड़ी चेतावनी दी। भारत के प्रतिशोध की प्रत्याशा में पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान की सेनाएं नई दिल्ली की आक्रामकता का जवाब देने में संकोच नहीं करेंगी।

26 फरवरी, 2019 की रात को क्या हुआ

पाकिस्तान को उसकी कायराना हरकत का जवाब 26 फरवरी को सुबह करीब 3:30 बजे दिया। भारतीय वायुसेना के 12 मिराज-2000 फाइटर जेट्स ने सीमा पार कर बालकोट में एलओसी के पार आतंकी कैंपों पर हमला किया। भारतीय लड़ाकू विमानों ने आतंकी कैंपों पर हाई प्रिसिशन वाले "स्पाइस" बम गिराए। आतंकवादियों के मारे जाने के बारे में कोई सरकारी आंकड़ा जारी नहीं किया गया था। हालांकि, कुछ मीडिया रिपोर्टों ने दावा किया गया था कि हमले में 250-300 आतंकवादी मारे गए थे। आज आलम यह है कि बंकर में घुसने से आतंकी आज भी घबराते हैं।

हवाई हमले के बाद एक प्रेस ब्रीफिंग में, तत्कालीन वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल (आर) बीएस धनोआ ने कहा था कि भारतीय वायुसेना ने अपने लक्ष्यों को निशाना बनाया है। हालांकि, उन्होंने भी उस वक्त मारे गए आतंकियों की संख्या के बारे में टिप्पणी करने से इनकार कर दिया था। इस बीच, 26 फरवरी को सुबह 7 बजे, पाकिस्तान सेना के डीजी-आईएसपीआर ने हमले के बाद उखाड़े गए पेड़ों की तस्वीरें ट्वीट करके दावा किया कि IAF जेट्स ने बालाकोट शहर के आस-पास के इलाकों में बम गिराए।

भारत-पाकिस्तान हवाई डॉगफाइट

बालाकोट हवाई हमले के एक दिन बाद 27 फरवरी 2019 को सुबह लगभग 10:00 बजे पाकिस्तान की वायुसेना ने भारतीय इलाकों में घुसने की कोशिश की थी। जम्मू और कश्मीर में भारतीय क्षेत्र की ओर बढ़ रहे पाकिस्तान वायु सेना (PAF) के विमानों को जवाब देने के लिए मिग-21 बाइसन, एसयू-30 एमकेआई, मिराज-2000 सहित भारतीय वायुसेना के फाइटर जेट्स ने नॉर्थ के कई एयरबेस से उड़ान भरी।

पाकिस्तान की वायुसेना के फाइटर जेट्स इससे पहले कि किसी सैन्य ठिकाने को निशाना बना पाते, भारतीय वायुसेना के जांबाजों ने उन्हें खदेड़ दिया। मिग-21 बायसन विमान उड़ा रहे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान एक पाकिस्तानी एफ-16 विमान को खदेड़ते हुए पाकिस्तानी सीमा में घुस गए थे। इस दौरान उन्होंने एक मिसाइल दागकर पाकिस्तानी एफ-16 विमान को मार गिराया था। हालांकि, उनके विमान पर भी एक मिसाइल लगने की वजह से उनका विमान क्षतिग्रस्त होकर पाकिस्तान की सीमा में गिर गया था।

हालांकि, विंग कमांडर सुरक्षित रूप से बाहर निकाल गए थे, लेकिन उनका पैराशूट पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में चला गया। उसके बाद उसे पाकिस्तानी सेना ने पकड़ लिया। 60 घंटों के बाद विंग कमांडर अभिनंदर को पाकिस्तान को रिहा करना पड़ा था। यह दूसरा उदाहरण था जब भारतीय सेना ने एलओसी पार कर आतंकी शिविरों को नष्ट किया। इससे पहले 29 सितंबर 2016 को, भारतीय सेना ने जम्मू और कश्मीर के उरी शहर के पास अपने बेस पर हुए आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान में सर्जिकल स्ट्राइक किया था, जिसमें सेना के 19 जवान शहीद हो गए थे।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai