पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास ले लिया है। उन्होंने सोशल मीडिया पर पोस्ट लिखकर इसकी जानकारी दी। सुप्रियो ने कहा कि वे राजनीति में समाज सेवा के लिए आए थे। उन्होंने अब अपनी राह बदलने का निर्णय लिया है। उन्होंने फेसबुक पर लिखा है कि लोगों की सेवा करने के लिए राजनीति में रहना जरूरी नहीं है। इससे अलग होकर भी अपने उद्देश्य को पूरा किया जा सकता है। बता दें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने दूसरे कार्यकाल में पहली बार कैबिनेट में फेरबदल किया। केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को इस्तीफा देना पड़ा। सुप्रियो को केंद्र मंत्री पद से हटाने के बाद से उनके राजनीतिक भविष्य को लेकर अटकलें लगना शुरू हो गई है।

सुप्रियो ने लिखा कि मुझे अच्छा रिस्पांस तब मिलता है। जब मैं राजनीति छोड़ गानों के बारे में पोस्ट करता हूं। कई पोस्ट में मुझे राजनीति से दूर रहने को कहा गया। जिसने मुझे इस बारे में सोचने के लिए मजबूर कर दिया। गौरतलब है कि मंत्री पद से हटाए जाने के बाद बाबुल राजनीति से दूर चल रहे थे। केंद्रीय पद छिनने के बाग उनका दर्द सामने आया था। उन्होंने पश्चिम बंगाल से केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए गए लोगों को बधाई दी थी। उन्होंने कहा था कि मैं अपने लिए दुखी हूं, लेकिन उन लोगों के लिए खुश हूं।

बता दें इस्तीफा देने के बाद बाबुल सुप्रियो ने कहा था कि उन्हें इस्तीफा देने के लिए कहा गया। उन्होंने कहा, 'मुझे खुशी है कि मेरे ऊपर भ्रष्टाचार का एक भी दाग नहीं है।' सुप्रियो ने आगे कहा था जब धुआं उठता है तो कहीं न कहीं आग जरूर होती है।

Posted By: Navodit Saktawat