भाजपा अध्‍यक्ष जेपी नड्डा (JP Nadda) ने शनिवार को अपनी नई टीम की घोषणा की। भाजपा की राष्‍ट्रीय टीम में छत्‍तीसगढ़ के पूर्व मुख्‍यमंत्री रमन सिंह, राजस्‍थान की पूर्व मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया, झारखंड के पूर्व मुख्‍यमंत्री रघुवर दास और पश्चिम बंगाल में भाजपा के चर्चित चेहरे मुकुल रॉय को राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष के तौर पर बड़ी जिम्‍मेदारी मिली है। बिहार जहां आगामी विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं वहां से सांसद राधा मोहन सिंह को भी राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष जैसी बड़ी जिम्‍मेदारी मिली है। मध्‍य प्रदेश के चर्चित चेहरा कैलाश विजयवर्गीय को राष्‍ट्रीय महामंत्री बनाया गया है। भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या को पार्टी के युवा मोर्चा का नया अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। मध्‍य प्रदेश में विधानसभा की 28 सीटों पर भी उपचुनाव होने वाले हैं। भाजपा अध्‍यक्ष ने अपनी नई टीम का एलान ऐसे वक्‍त में किया है जब बिहार विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का एलान किया जा चुका है। यही नहीं देश के कई राज्‍यों में लोकसभा और विधानसभा की सीटों पर उपचुनाव भी होने वाले हैं। निर्वाचन आयोग के मुताबिक, बिहार विधानसभा चुनाव तीन चरणों में 28 अक्टूबर, तीन नवंबर और सात नवंबर को होंगे। मतगणना 10 नवंबर को होगी। ये चुनाव कोरोना काल में होने जा रहे हैं।

कैलाश विजयवर्गीय फिर राष्ट्रीय महामंत्री बने

मध्यप्रदेश से कैलाश विजयवर्गीय फिर राष्ट्रीय महामंत्री बने। आदिवासी नेता और पूर्व मंत्री ओम प्रकाश धुर्वे को राष्ट्रीय मंत्री बनाया गया। ग्वालियर चंबल क्षेत्र में अनुसूचित जाति वर्ग के बड़े नेता और पूर्व मंत्री लाल सिंह आर्य को अनुसूचित जाति मोर्चा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाया गया। मंदसौर सांसद सुधीर गुप्ता राष्ट्रीय सह कोषाध्यक्ष नियुक्त किए गए। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती और पूर्व सांसद प्रभात झा को नहीं मिला राष्ट्रीय कार्यकारिणी में स्थान। दोनों नेता पहले राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के पद पर थे। राष्ट्रीय मंत्री बनाए गए अरविंद मेनन मध्य प्रदेश में प्रदेश संगठन महामंत्री रह चुके हैं।

अब संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति पर नजर

केंद्रीय संगठन की घोषणा के साथ ही अब सबकी नजरें संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति पर टिक गई है। संसदीय बोर्ड पार्टी में शीर्ष निर्णायक संस्था है। माना जा रहा है कि इसमें शीर्ष नेतृत्व को भरोसेमंद और सफल महासचिव भूपेंद्र यादव के साथ नरेंद्र मोदी कैबिनेट से एक महिला मंत्री को स्थान मिल सकता है। चर्चा यह भी है कि संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति में बिहार चुनाव के बाद बदलाव किया जाएगा। संसदीय बोर्ड में पिछले कुछ वर्षों में चार स्थान खाली हुए थे। एम.वेंकैया नायडूू उपराष्ट्रपति बन गए, जबकि अरुण जेटली, सुषमा स्वराज और अनंत कुमार का निधन हो चुका है।

टीम नड्डा में नए चेहरों और युवाओं पर भरोसा

शनिवार को भाजपा संगठन में बहुप्रतीक्षित बदलाव की घोषणा की गई। महासचिवों की बात हो तो भूपेंद्र यादव, अरुण सिंह और कैलाश विजयवर्गीय को छोड़कर सभी चेहरे नए हैं। राममाधव, मुरलीधर राव, अनिल जैन, सरोज पांडे जैसे चेहरे भी बदल दिए गए। कुछ साल पहले ही भाजपा में शामिल हुईं पूर्व केंद्रीय मंत्री डी.पुरंदेश्वरी, कर्नाटक के विधायक सीटी रवि, पंजाब के तरुण चुग, असम के दिलीप सैकिया व दिल्ली से राज्यसभा सांसद दुष्यंत कुमार गौतम को महासचिव बनाया गया है। जाहिर है नड्डा कामकाज और जोश दोनों में बदलाव लाना चाहते हैं। उपाध्यक्ष की बात की जाए तो वहां भी पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह, वसुंधरा राजे और बैजयंत पांडा के अलावा सभी नए लोग लाए गए जिसमें पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास, पूर्व कृषि मंत्री व सांसद राधामोहन सिंह, बंगाल से आने वाले मुकुल राय खास है। जबकि इस पद से उमा भारती, ओम माथुर, प्रभात झा, और विनय सहस्रबुद्धे की विदाई हो गई है।

संगठन महामंत्री और सह संगठन मंत्री के रूप में बीएल संतोष, वी.सतीश, सौदान सिंह और शिवप्रकाश बरकरार है। जबकि लंबे अरसे बाद कोषाध्यक्ष के लिए औपचारिक नियुक्ति हुई है। उत्तर प्रदेश से आने वाले राजेश अग्रवाल को कोषाध्यक्ष बनाया गया है।

पहली बार सांसद बने कर्नाटक के युवा चेहरे तेजस्वी सूर्या को युवा मोर्चे की जिम्मेदारी सौंपी गई है। महिला मोर्चा की प्रमुख का एलान नहीं किया गया है, लेकिन अन्य मोर्चे में चेहरे बदल दिये गए हैं।

डी.पुरुन्देश्वरी को महासचिव बनाकर भाजपा ने चंद्रबाबू नायडू कोसाफ संकेत दे दिया है कि फिलहाल तेलगूदेशम के साथ किसी प्रकार के तालमेल की संभावना नहीं है। वहीं पूर्वोत्तर भारत से पहली बार दिलीप सैकिया को महासचिव के रूप में अहम जिम्मेदारी सौंप कर भाजपा ने पूर्वोत्तर के राज्यों में अपनी पकड़ को स्थायी व मजबूत बनाने की कोशिश की है।

उत्तर प्रदेश से बस्ती के सांसद हरीश द्विवेदी और कौशांबी के सांसद विनोद सोनकर राष्ट्रीय सचिव के रूप संगठन में जगह बनाने में सफल रहे हैं। वहीं महाराष्ट्र के तेजतर्रार नेता विनोद तावड़े और गोपीनाथ मुंडे की बेटी पंकजा मुंडे भी सचिव बनाई गई हैं। किसान मोर्चे के अध्यक्ष पद से सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त की छुट्टी हो गई है। उनकी जगह उत्तर प्रदेश के फतेहपुर सीकरी से सांसद राजकुमार चाहर को लाया गया है। इसी तरह के.लक्ष्मण को ओबीसी मोर्चा, लाल सिंह आर्य को अनुसूचित जाति मोर्चा, समीर उरांव को अनुसूचित जनजाति मोर्चा और जमाल सिद्दिकी को अल्पसंख्यक मोर्चा की जिम्मेदारी दी गई है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020