नई दिल्ली। Boycott China: भारतीय रेलवे द्वारा चीनी कंपनी का टेंडर रद्द करने के बाद अब कोरोना वायरस की निगरानी के लिए इस्तेमाल थर्मल कैमरों के लिए नए टेंडर जारी किए हैं। नए नियमों के मुताबिक इस परियोजना में उपयोग किए जाने वाली हर वस्तु या उपकरण पर यह लिखा होना जरूरी होगा कि वह किस देश में बनी है। ये पूरी कवायद मेड इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत को बढ़ावा देने के लिए की जा रही है।

रेलवे की कंपनी रेलटेल ने पिछले ही महीने एआई आधारित सर्विलांस कैमरों के लिए टेंडर जारी किया है। इन कैमरों से ना सिर्फ किसी भी व्यक्ति के शरीर के तापमान की जांच की जा सकती है बल्कि यह कैमरा इस बात के लिए भी सतर्क करता है कि किसी ने मास्क पहना है या नहीं। लेकिन दो हफ्ते पहले ही यह रेलवे ने यह टेंडर खारिज कर दिया क्योंकि यह जानकारी मिली थी कि यह टेंडर चीनी कंपनी को मिला था। इतना ही नहीं ये भी जानकारी मिली कि कैमरे और अन्य संबंधित उपकरणों के लिए शर्तें भी इस चीनी कंपनी की सहूलियत के हिसाब से ही रखी गई थीं, बावजूद इसके भारतीय रेलवे ने बड़ा कदम उठाते हुए ये टेंडर रद्द कर दिए।

इधर कुछ भारतीय कंपनियों ने रेलटेल को पत्र लिखकर टेंडर में मांगी गई कुछ शर्ते और सुविधाएं चीनी कंपनी हिकविजन को ध्यान में रखकर जारी करने का आरोप लगाया था। बताया जा रहा है कि टेंडर की शर्तों में कैमरे के लिए डीपइनमाइंड तकनीक मांगी गई थी। चीनी कंपनी के उत्पादों में ये तकनीक शामिल थी। गौरतलब है कि यह टेंडर उसी प्रमुख चीनी कंपनी को मिला था जो सीसीटीवी कैमरों, उसके पार्ट्स और तकनीक में खासी पकड़ रखती है। लिहाजा तमाम शिकायतों को ध्यान में रखते हुए भारतीय रेलवे ने चीनी कंपनी का टेंडर रद्द कर दिया गया था।अब भारतीय रेल ने नए सिरे से टेंडर की प्रक्रिया शुरू की है।

Posted By: Rahul Vavikar

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Raksha Bandhan 2020
Raksha Bandhan 2020