सीबीएसई 12वीं के प्राइवेट छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि प्राइवेट स्टूडेंट्स का परिणाम भी मूल्यांकन प्रणाली के आधार पर घोषित किया जाए। यह याचिका वकील अभिषेख चौधरी के जरिए दाखिल की गई है। जिसमें 17 जून को जारी कई रेगुलर छात्रों की मूल्यांकन नीति के क्लाज 29 का जिक्र किया गया है।

याचिका में कहा गया है कि सीबीएसई प्राइवेट स्टूडेंट्स के साथ बराबरी का व्यवहार नहीं कर रहा है। कोरोना संक्रमण के चलते एग्जाम कराना सहीं नहीं है। इससे छात्रों के स्वास्थ्य को खतरा है। याचिका में कहा गया है कि क्लैट, नीट आदि परीक्षाओं की तारीख घोषित हो चुकी हैं। अगर एग्जाम टलती रही तो निजी स्टूडेंट्स राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली परीक्षाओं में शामिल नहीं हो पाएंगे। याचिका में मांग की गई है कि अदालत सीबीएसई को परीक्षा निरस्त करने का आदेश दें। 12वीं प्राइवेट स्टूडेंट्स का रिजल्ट भी रेगुलर छात्रों की मूल्यांकन प्रणाली की तरह घोषित किया जाए।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags