नई दिल्ली : हजरत निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज में शामिल होकर देशभर में कोरोना वायरस फैलाने के आरोपित तीन देशों के 536 विदेशी नागरिकों के खिलाफ गुरुवार को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने साकेत कोर्ट में 12 आरोप पत्र दाखिल किए हैं। इससे पहले मंगलवार और बुधवार को भी 32 देशों के 374 विदेशी जमातियों के खिलाफ 35 आरोप पत्र दायर किए गए थे। इसके साथ ही अब तक 35 देशों के 910 विदेशी नागरिकों के खिलाफ 47 आरोप पत्र दायर किए जा चुके हैं। हालांकि इनमें किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

इन विदेशी नागरिकों पर आरोप है कि इन्होंने भारत में कई नियम कानून और निर्देशों का उल्लंघन करने के साथ वीजा नियमों का भी उल्लंघन किया। पुलिस ने इन सभी के खिलाफ महामारी अधिनियम, डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट व धारा 144 का उल्लंघन आदि के तहत आरोप तय किए है। आरोपितों की लापरवाही की वजह से कोरोना के संक्रमण फैलने की आशंका थी, इसलिए इनके खिलाफ धारा 269 आइपीसी के तहत मुकदमा चलाया जा सकता है और इनको दंडित किया जा सकता है। इसके अलावा इन सभी ने क्वारंटाइन नियम को भी नहीं माना, इसलिए धारा 271 आइपीसी के तहत इनके खिलाफ मुकदमा चलाया जा सकता है।

क्राइम ब्रांच के अधिकारियों का कहना है मरकज मामले में करीब 80 फीसद जांच पूर्ण हो चुकी है। मौलाना मुहम्मद साद के भी तमाम कर्मचारियों और अन्य लोगों से पूछताछ की जा चुकी है। लॉकडाउन के बाद पुलिस मुख्य केस में नामजद साद और प्रबंधन से जुड़े छह मौलाना समेत मरकज में सक्रिय भूमिका निभाने वाले करीब 15 अन्य लोगों को गिरफ्तार कर पूछताछ करेगी।

दिल्ली हाई कोर्ट ने आदेश दिया है कि तब्लीगी जमात में शामिल होने आए 916 विदेशी नागरिकों को नौ अलग-अलग स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया जाए। न्यायमूर्तिं विपिन सांघी और न्यायमूर्तिं रजनीश भटनागर की पीठ ने कहा कि विदेशी नागरिकों के खाने-पीने की पर्याप्त व्यस्था तब्लीगी जमात के जिम्मे होगी।

गौरतलब है कि कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद इन विदेशी जमातियों को क्वारंटाइन सेंटर से स्थानांतरित करने वाली मांग वाली याचिका हाई कोर्ट में दायर की गई थी। दिल्ली सरकार ने ओर से स्थानांतरण को लेकर अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी किया है। केंद्र और दिल्ली पुलिस ने भी कोई आपत्ति नहीं उठाई। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई सुनवाई के दौरान पीठ ने कहा कि पुलिस की इजाजत के बगैर विदेशी नागरिक कहीं दूसरे स्थान पर नहीं जाएंगे और जमात को विदेशियों के ठहरने और वहां की व्यवस्था की जानकारी पुलिस को उपलब्ध करानी होगी।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020