चीन के खुराफातों के परेशान केंद्र सरकार आरपास के मूड में आ गई है। लोकप्रिय चायनीज ऐप पर पाबंदी लगाने के बाद अब सरकार विचार कर रही है कि देश में 5G नेटवर्क से भी चीनी कंपनियों को बाहर कर दिया जाए। सरकार ने इस संबंध में प्लानिंक शुरू कर दी है। इस कोशिश के तहत सोच-विचार चल रहा है कि देश में 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी प्रक्रिया को इस साल टाल दिया जाए। 5G नेटवर्क के भविष्य को लेकर भारत और अमेरिका के बीच विमर्श भी चल रहा है। इससे पहले सोमवार को अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने अपने सभी मित्र देशों से 5G नेटवर्क विस्तार को लेकर सतर्क रहने और भरोसेमंद तकनीकी कंपनी की सेवा ही लेने की अपील की थी।

5G पर भारत और अमेरिका मिल सकते हैं हाथ

सबकुछ ठीक रहा तो जल्द ही भारत और अमेरिका इस दिशा में हाथ बढ़ा सकते हैं। अमेरिका भी इसके लिए राजी है। वहां के संचार आयोग ने भारत के साथ मिलकर 5G तकनीकी पर काम करने की बात कही है। बता दें, दुनिया में हुआवे, नोकिया (फिनलैंड) और एरिक्सन (स्वीडन) कंपनियां हैं, जो प्रमुख तौर पर 5G तकनीकी के लिए आवश्यक इंफ्रास्ट्रक्चर दे रही हैं। भारतीय बाजार पर हुआवे काफी दांव लगाए हुए है। हुआवे की भारत से उम्मीद इसलिए भी अधिक है कि अमेरिका और यूरोपीय बाजार में उसके खिलाफ माहौल बन गया है। यानी भारत सरकार चीनी कंपनियों के बहिष्कार का फैसला लेती है तो यह हुआवे के लिए एक और बड़ा झटका होगा।

हाई लेवल मीटिंग के बाद हुआ ऐसा ट्वीट

मंगलवार को नई दिल्ली स्थित अमेरिकी दूतावास ने अपने ट्विटर हैंडल से 5G तकनीक को लेकर कुछ ट्वीट किए। इनमें कहा गया कि भविष्य में कारें, बैंक, अस्पताल, इलेक्ट्रिकल ग्रिड्स, स्मार्ट मैन्यूफैक्चरिंग सब कुछ 5G से चलेंगे। एक दिन पहले ही गृह मंत्री अमित शाह, विदेश मंत्री एस जयशंकर और उद्योग व वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल के बीच बैठक हुई थी, जिसमें चीन की दिग्गज तकनीकी कंपनी हुआवे को भारत में 5G स्पेक्ट्रम नेटवर्क से बाहर करने पर भी विचार हुआ है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना