Corona Cases in Delhi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित दिल्ली सहित आठ राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिग के माध्यम से बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री अरविद केजरीवाल ने कोविड-19 के हालात और इससे निपटने के लिए किए जा रहे उपायों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा कि दिल्ली में अभी कोरोना के सामान्य बेड पर्याप्त संख्या में उपलब्ध हैं, लेकिन आइसीयू बेड की कमी महसूस हो रही है। केजरीवाल ने प्रधानमंत्री को बताया कि दिल्ली के सभी सरकारी और निजी अस्पतालों में कोविड के लिए आरक्षित कुल बेड में से 9,400 भरे हुए हैं, जबकि 8,500 बेड खाली हैं। कोरोना के सामान्य बेड की कमी नहीं है, लेकिन मात्र 724 आइसीयू बेड खाली हैं, जबकि 3500 भरे हुए हैं। उन्होंने कहा कि आइसीयू बेड बढ़ाने में गृह मंत्री अमित शाह मदद कर रहे हैं, लेकिन अगर केंद्र सरकार के सफदरजंग और एम्स जैसे अस्पतालों में फिलहाल दिल्लीवासियों के लिए 1000 आइसीयू बेड आरक्षित कर दिए जाएं तो यह काफी मददगार साबित होगा। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान हमें और दिल्ली के लोगों को केंद्र सरकार से जो मदद मिली है, उसके लिए हम सभी शुक्रगुजार हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना की तीसरी लहर 8,600 पाजिटिव केस के साथ 10 नवंबर को अपने शिखर पर थी। इसे अधिक खतरनाक बनाने में पड़ोसी राज्यों में जलाई जा रही पराली के प्रदूषण का विशेष योगदान रहा है। हम चाहते हैं कि आपके (पीएम) नेतृत्व में दिल्ली के पड़ोसी मुख्यमंत्री पराली को खत्म करने के लिए टीम की तरह काम करें।

सीएम ने पीएम को बताया कि दिल्ली में कोरोना की पहली लहर जून में आई थी, उस दौरान प्रतिदिन 20 हजार सैंपल की जांच की गई थी। सितंबर में जांच का दायरा बढ़ाते हुए 60 हजार प्रतिदिन कर दी गई। अब संक्रमण दर लगातार कम हो रही है, लेकिन बढ़ती मृत्यु दर चिता का विषय है और हमें इसे कम करना होगा। हमें उम्मीद है कि आने वाले दिनों में संक्रमण दर के साथ मृत्यु दर भी लगातार कम होती जाएगी।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Budget 2021
Budget 2021