चंडीगढ़। दिल्ली के निजामुद्दीन में तब्‍लीगी मरकज़ में शामिल होने वाले सैकड़ों लोग हरियाणा में आए हैं। इससे पूरे राज्‍य में हड़कंप मच गया है। अभी तक मरकज में हिस्सा लेने वाले 503 लोगों का पता चला है। मंगलवार तक हरियाणा सरकार के पास ऐसे करीब 200 लोगों के राज्‍य में आने की सूचना थी, लेकिन बुधवार को पता चला कि ऐसे लोगों की संख्या 503 है। ये लोग निजामुद्दीन से हरियाणा के अलग-अलग जिलों में आ चुके हैं। इनमें अधिकांश तमिलनाडु के रहनेवाले हैं और 72 लोग विदेशी हैं। इन सभी लोगों की सरकार जांच कराएगी और इनको क्‍वारंटाइन किया जाएगा। पुलिस और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीमों ने कई जगहों पर इस संबंध में मस्‍जिदों पर छापे मारे हैं।

निजामुद्दीन से हरियाणा आए लोगों पर सरकार की निगाह, सभी की होगी जांच

राज्य सरकार ने निजामुद्दीन से आए सभी लोगों की पहचान कर ली है, लेकिन फिलहाल जिलावार सूची सार्वजनिक करने से परहेज किया जा रहा है। यह सभी लोग अलग-अलग जिलों की मस्जिदों में रुके और वहां सैकड़ों-हजारों लोगों के संपर्क में आए। राज्य सरकार ने स्वास्थ्य विभाग को अब इन सभी लोगों की जांच करने के आदेश जारी कर दिए हैं। इन सभी का कोरोना टेस्ट कराने की तैयारी की जा रही है। अकेले अंबाला छावनी में 44 से अधिक लोग हैं जो निजामुद्दीन से यहां पर पहुंचे हैं।

निजामुद्दीन से हरियाणा आए लोगों में 72 विदेशी नागरिक

हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि सभी की मेडिकल जांच करवाई जाएगी। अस्पतालों की लेबोरेट्री में ऐसे लोगों के सेंपल लिए जाएंगे। जो केस निगेटिव मिलेंगे, उन्हें क्वारंटाइन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी 503 लोगों के बारे में पूरी जानकारी मिल चुकी है, लेकिन उपलब्ध जानकारी को पुख्ता करने के लिए गृह विभाग अपने ढंग से काम करने में जुटा हुआ है। उन्होंने बताया कि जमातियों में 72 विदेशी नागरिक हैं, जबकि अधिकांश दूसरे राज्यों के हैं, जो अपने धर्म की शिक्षाओं का प्रचार प्रसार करने के लिए हरियाणा में आए थे। पंचकूला जिला प्रशासन पहले ही तीन दर्जन से अधिक लोगों को क्वारंटाइन करने की प्रक्रिया प्रारंभ कर चुका है।

पानीपत में मस्जिदों में जांच के लिए पहुंची पुलिस

गृह मंत्री अनिल विज ने एक सवाल के जवाब में कहा कि लॉकडाउन के बाद यह लोग राज्य में आए हैं, इसलिए उन्होंने अपराध भी किया है। सरकार पहले कोरोना टेस्ट और क्वारंटाइन की प्रक्रिया पूरी कर ले। उसके बाद यदि जरूरत पड़ी तो ऐसे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी। लॉकडाउन का उल्लंघन करना अपराध है और इसमें कानूनी प्रक्रिया अपनाने का प्रावधान है।

सभी 72 विदेशी जमातियों के वीजा की होगी जांच

मरकज में भाग लेकर हरियाणा पहुंचे 72 विदेशी नागरिकों की जांच के आदेश गृह मंत्री ने दिए हैं। विज का इस मामले में कहना है कि लॉकडाउन होने के बाद मौलाना साद को मरकज को स्थगित कर देना चाहिए था ताकि उस जगह पर भीड़ इकट्ठा न हो। विज ने कहा कि विदेशियों के पासपोर्ट की जांच की जाएगी ताकि यह पता लग सके कि उन्हें कब तक का वीजा मिला हुआ है। अगर वीजा खत्म भी हो चुका होगा तो भी उन्हें डि-पोर्ट करने में वक्त लगेगा। ऐसे लोगों को रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद ही भेजा जा सकेगा।

बीमारी फैलाने की चाल से विज ने किया इंकार

विज ने इस बात से इन्‍कार किया कि निजामुद्दिन से आए सभी 503 लोगों की मंशा राज्य में किसी तरह का षड्यंत्र करने अथवा साजिश की थी। यह लोग अपने धर्म के प्रचारक हैं और उसी काम से आए थे, लेकिन लॉकडाउन के बावजूद धर्म के प्रचार प्रसार के काम के लिए हरियाणा में आकर उन्होंने बड़ी मूर्खता की है। इन लोगों की नियत राज्य अथवा देश में कहीं बीमारी फैलाने की नहीं थी, लेकिन इन लोगों को लगता है कि कोरोना कोई बीमारी नहीं होती। मस्जिदों में नमाज पढ़ो। खुदा को याद करो तथा कोई बीमारी उनका कुछ नहीं बिगाड़ सकती है। इसी तरह का वीडियो इनके प्रमुख साद का भी जारी हुआ है, जो सरकार तक पहुंचा है।

जानकारी के मुताबिक, निजामुद्दीन से तब्लीगी मरकज में शामिल हुए चार लोग कैथल पहुंचे हैं। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग की तरफ से इस बात की पुष्टि नहीं की है कि ये निजामुद्दीन से आए हैं, लेकिन दिल्ली से लौटे इन मुस्लिम लोगों के संपर्क में छह अन्य लोग और भी आए हैं, जिनकी पहचान करने के बाद इनको स्वास्थ्य विभाग ने जिला नागरिक अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा है। ये सभी लोग पूंडरी, गुहला और कैथल शहर के बताए जा रहे हैं। अब तक आइसोलेशन वार्ड में रखे गए लोगों की कुल संख्या 11 हो गई है। इनमें 10 मुस्लिम समुदाय से हैं।

एक अन्य युवक में कोरोना जैसे लक्षण दिखने पर बुधवार को उसको वार्ड में रखा गया है। विदेश से लौटे एक युवक सहित तीन की रिपोर्ट निगेटिव आने पर उनको छुट्टी दे दी गई है। जिले में अभी तक कोई भी पॉजिटिव केस नहीं मिला है। अब तक कुल 38 लोगों में से 27 की रिपोर्ट आ चुकी है जो निगेटिव है। जिला नागरिक अस्पताल के पीएमओ डॉ. ओमप्रकाश ने बताया कि 100 बिस्तरों का आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। इसमें कुल 11 लोगों को रखा हुआ है। जिले में अभी तक पॉजिटिव केस कोई नहीं आया है, जो राहत की बात है।

राज्‍य में दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी जमात सेंटर (मरकज) के मामले में पुलिस ने कई जगहों पर मस्जिदों में छापेमारी की है। जानकारी के मुताबिक पानीपत के 44 लोग निजामुद्दीन से आए हैं। करनाल से नौ लोग कार्यक्रम में शामिल हुए थे। इनमें से एक वापस आ गया और आठ अभी दिल्‍ली में ही रह रहे हैं। करनाल आए व्‍यक्ति को 14 दिन के लिए कुंजपुरा स्थित सेंटर में क्वारंटाइन में रखा गया है।

इसके अलावा यमुनानगर से 56 और जगाधरी से 33 लोग मरकज में शामिल होने वाले मिले हैं। इन सभी लोगों की स्क्रीनिंग कराई जा रही है। फिलहाल इन सभी को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन किया गया है। अंबाला छावनी में 10 लोग निजामुद्दीन से आए हैं। जींद में दुर्गा कॉलोनी का रहने वाला असलम निजामुद्दीन मरकज में शामिल था। स्वास्थ्य बिगड़ने पर वह दिल्ली के एक अस्पताल में दाखिल है।

इसी कड़ी में फतेहाबाद जिला पुलिस और स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की टीम ने टोहाना की मस्जिद में भी छापामारी की। इस दौरान मस्जिद में 11 लोग मिले। सभी को यहां से निकालकर रामभवन में बनाए गए होम शेल्टर में ले जाया गया। सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम मौके पर पहुंच गई। इन सभी की स्क्रीनिंग की गई। दो लोगों को बुखार और खांसी की शिकायत थी। सभी लोगों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। बुधवार को दोनों बीमार लोगों के सैंपल लिए गए। स्वास्थ्य विभाग की एक टीम वहीं पर लगा दी है जो इनके स्वास्थ्य पर नजर रख रही है।

भिवानी के ढिगावा मंडी में भी दिल्ली से लौटे मुस्लिम समुदाय के दो लोगों में से एक का चेकअप किया गया। व्‍यक्ति को क्‍वांरटाइन किया गया है। एक व्यक्ति गांव के ही बिजली बोर्ड में कार्यरत है। वहीं एक लापता बताया जा रहा है। झज्‍जर के बाढ़सा नेशनल कैंसर इंस्‍टीट्यूट में भी मंगलवार को निजामुद्दीन से करीब 100 लोगों को लाया गया है। इन सभी की जांच की जा रही है तो वहीं सबको क्‍वारंटाइन किया गया है।

Posted By: Yogendra Sharma

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना