भारत ने एक बार फिर साबित कर दिया है कि मुश्किल वक्त में वह पूरी दुनिया की मदद करने का दम रखता है। जिस Hydroxychloroquine को कोरोना वायरस की दवा बताया जा रहा है और जिसके लिए अमेरिका, स्पेन, ब्रिटेन जैसे बड़े देश भारत की ओर आस लगाकर देख रहे हैं, उस दवा की आपूर्ति शुरू हो गई है। भारत से Hydroxychloroquine की पहली खेप गुरुवार को रवाना हो गई, जिसे अमेरिका, ब्रिटेन, स्पेन समेत कुछ देशों को भेजा गया है। बता दें, इससे पहले भारत ने अपनी जरूरत को भांपते हुए इस दवा की आपूर्ति पर रोक लगा दी थी, लेकिन दूसरे देशों की मांग को देखते हुए इसे फिर से बाहर भेजने की अनुमति दे दी गई है। दुनिया के तकरीबन 30 देश भारत से एचसीक्यू की खरीद करना चाहते हैं।

ट्रम्प खुश, भारत को आगे मिल सकता है बड़ा फायदा

मोदी सरकार के इस फैसले का भारतीय कूटनीति पर बड़ा असर पड़ सकता है। अमेरिका को Hydroxychloroquine भेजने के फैसले से सबसे ज्यादा अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप खुश नजर आ रहे हैं। एक दिन पहले ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को महान इंसान बताया था। गुरुवार को भी ट्रम्प ने दोबारा प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ की और भारत को शुक्रिया कहा।

ये देश भी भारत को दे रहे धन्यवाद

अमेरिकी राष्ट्रपति के अलावा बुधवार रात ब्राजील के राष्ट्रपति जेर बोल्सोनारो ने अपने राष्ट्रीय संबोधन में Hydroxychloroquine दवा की आपूर्ति के लिए भारत की जनता और प्रधानमंत्री मोदी का खास तौर पर धन्यवाद दिया था। इसी तरह, ब्रिटेन की नई दिल्ली में उच्चायुक्त जेन थाम्पसन ने भी ब्रिटेन को पैरासीटामोल की आपूर्ति करने के लिए प्रधानमंत्री और भारत सरकार का धन्यवाद दिया है।

इससे पहले विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने बुधवार को आस्ट्रेलिया और स्पेन के विदेश मंत्रियों से बात की और उन्हें Hydroxychloroquine की आपूर्ति करने का आश्वासन दिया है। इन देशों को भी आने वाले दिनों में दवा की आपूर्ति कर दी जाएगी।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस