जम्मू-कश्मीर सरकार ने श्री अमरनाथ जी यात्रा रद्द करने का फैसला किया है। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड के अनुसार पवित्र गुफा में सभी पारंपरिक धार्मिक कर्मकांड पहले की तरह ही किए जाएंगे। श्री अमरनाथ जी श्राइन बोर्ड का कहना है कि वह दुनिया भर में भक्तों के लिए ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था करेगा। यह लगातार दूसरा साल है जब बाबा अमरनाथ यात्रा नहीं होगी। उपराज्यपाल मनोज सिन्हा जो श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड के चेयरमैन भी हैं, ने बोर्ड के सदस्यों के साथ इस मुद्दे पर आज सोमवार को व्यापक विमर्श किया और उसके बाद श्री अमरनाथ यात्रा को रद्द करने का फैसला किया। उपराज्यपाल ने ट्वीट कर यात्रा के रद्द होने की सूचना दी। उन्होंने कहा कि बोर्ड के सदस्यों के साथ व्यापक विचार विमर्श के बाद यह फैसला किया गया है यात्रा सिर्फ सांकेतिक होगी हालांकि पवित्र गुफा में सभी पारंपारिक धार्मिक पूजा अर्चना होगी। उन्होंने कहा कि लोगों की जिंदगी बचाना बहुत जरूरी है इसलिए हमने यात्रा नहीं करवाने का फैसला जनहित में लिया है। श्री अमरनाथ यात्रा को 28 जून से शुरू करने का फैसला दिया गया था और यात्रा 56 दिन की थी जो रक्षाबंधन वाले दिन 22 अगस्त को संपन्न होनी थी।

कारोबार पर पड़ेगा असर

जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स के प्रमुख अरुण गुप्ता ने कहा है कि सरकार ने लगातार दूसरे साल अमरनाथ यात्रा रद्द की। आज के फैसले ने कारोबारी समुदाय को निराश किया है। इसका सीधा असर उनके कारोबार पर पड़ेगा। सरकार को अपने फैसले की समीक्षा करनी चाहिए। इसके बजाय भक्तों की संख्या कम कर सकती है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags