Donald Trump India Visit : अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत के दौरे के दूसरे दिन 25 फरवरी को उनकी बेटी इवांका ट्रंप राष्ट्रपति भवन पहुंची थीं। वह ट्रंप की बेटी होने के साथ ही सीनियर एडवाइजर भी हैं। राष्ट्रपति भवन में अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। इसके बाद उन्होंने राजघाट पहुंचकर महात्मा गांधी की समाधि पर श्रद्धांजलि दी और फर्स्ट लेडी मेलानिया के साथ ट्रंप ने राजघाट में लगाया पेड़।

इसके बाद उन्होंने विजटर बुक में संदेश लिखा। राष्ट्रपति ट्रंप इसके बाद वहां से हैदराबाद हाउस के लिए रवाना हो गए। वहां पीएम मोदी ने उनकी अगवानी की।

यहीं पर पीएम मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप के बीच द्विपक्षीय वार्ता होनी है और इसके बाद दोनों नेता करीब 12.40 बजे संयुक्त बयान जारी करेंगे।

राष्ट्रपति भवन में ट्रंप को 21 तोपों की सलामी देकर औपचारिक स्वागत किया गया। ट्रंप ने गार्ड ऑफ ऑनर का निरीक्षण किया। इसके बाद राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात की।

हैदराबाद हाउस पर भारत-अमेरिका एक संयुक्त बयान जारी कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के बीच वार्ता के बारे में बताया जाएगा। वहीं, प्रथम महिला मेलेनिया ट्रंप दिल्ली के नानकपुरा के एक सरकारी स्कूल का दौरा करने पहुंची। स्कूल में एक 'हैपीनेस क्लास' (खुशी की कक्षा) में शिरकत कर वह छात्रों और शिक्षकों से करीब एक घंटे तक बातचीत की। तिलक लगाकर उनका स्वागत किया गया।

इस दौरान मेलेनिया को बताया जाएगा कि छात्रों को एक दूसरे के साथ सौहार्दपूर्ण तरीके से सह-अस्तित्व के बारे में कैसे सिखाया जाता है। माइंडफुलनेस एक्सरसाइज और अच्छे नैतिक पाठ पर केंद्रित इस व्यवस्था की व्यापक प्रशंसा से मेलेनिया काफी प्रभावित हैं। इससे पहले कहा जा रहा था कि केजरीवाल और सिसोदिया मेलेनिया को स्कूल में सार्वजनिक शिक्षा के अपने प्रयोग के बारे में जानकारी देंगे।

मगर, जिस वजह से मेलेनिया स्कूल का दौरा करने जा रही हैं, उसका सूत्रपात करने वाले दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का नाम ही मेहमानों की सूची से हटा दिया गया है। इस मामले में राजनीति होने के बाद अमेरिकी दूतावास ने कहा कि उसे दिल्ली के सरकारी स्कूल में अमेरिका की प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप की यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मौजूदगी को लेकर कोई आपत्ति नहीं है। मगर, दूतावास ने इस बात को 'समझने को लेकर भी सराहना की कि यह कोई राजनीतिक समारोह नहीं है'।

गौरतलब है कि दिल्ली सरकार ने जुलाई 2018 में हैप्पीनेस करिकुलम की शुरुआत की थी। इसके जरिये दिल्ली सरकार के स्कूलों में कक्षा एक से आठ में पढ़ने वाले छात्रों की रोजना 45 मिनट की हैप्पीनेस क्लास होती है, जिसमें कथा-कहानी, ध्यान और सवाल-जवाब सत्र होता है। इसी तरह, नर्सरी और केजी के छात्र-छात्राओं के लिए हफ्ते में दो बार कक्षाएं होती हैं।

Posted By: Shashank Shekhar Bajpai