भारत के चुनाव आयोग ने शनिवार को COVID-19 मामलों में वृद्धि के मद्देनजर चुनावी रैलियों पर प्रतिबंध 31 जनवरी 2022 तक बढ़ा दिया। घर-घर जाकर प्रचार करने के लिए चुनाव आयोग द्वारा 5 व्यक्तियों की सीमा 10 व्यक्तियों तक बढ़ा दी गई है। पांच राज्यों उत्तर प्रदेश, पंजाब, गोवा, मणिपुर और उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान अगले महीने शुरू होने वाला है।

चुनाव आयोग ने COVID-19 मामलों में वृद्धि के बीच चुनाव प्रचार के नियमों में कुछ छूट दी थी। 22 जनवरी से, चरण -1 के चुनाव अभियान के लिए, अधिकतम 500 व्यक्तियों को COVID प्रोटोकॉल का पालन करते हुए खुले स्थानों में एकत्र होने की अनुमति है। 1 फरवरी से, चरण -2 चुनाव अभियान के लिए, उम्मीदवारों या राजनीतिक दलों को COVID प्रोटोकॉल का पालन करते हुए निर्दिष्ट खुले स्थानों में 500 व्यक्तियों तक की सार्वजनिक बैठकें करने की अनुमति है।

कोरोना महामारी के बीच चुनाव सुरक्षित भी हो और उम्मीदवारों को जनता के बीच जाने का अवसर भी मिले, इसे लेकर मंथन तेज हो गया है। इस संबंध में शनिवार को चुनाव आयोग की केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव के साथ बैठक हुई है। हर चरण में एक हफ्ते तक प्रचार की छूट देने के विकल्प पर विचार किया जा रहा है। पांच राज्यों में लगे प्रतिबंध को 31 जनवरी के अंत तक बढ़ाया गया है। उसके बाद पहले चरण वाले क्षेत्रों में प्रचार की अनुमति दी जा सकती है। यह छूट चरणवार दी जाएगी, ताकि एकबारगी पूरे प्रदेश में भीड़ न इकट्ठी होने लगे।

Posted By: Navodit Saktawat