Kisan Protest: कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी है। आज सुबह से जारी हंगामा और हिंसा की आशंकाएं दोपहर को उस समय थम गई जब दिल्ली पुलिस कमिश्नर ने ऐलान किया कि किसानों को दिल्ली में प्रवेश की अनुमति दी जा रही है। किसानों को निरंकारी समागम ग्राउंंड पर प्रदर्शन की अनुमति दी गई है। इससे पहले एक वक्त ऐसा था जब लगा कि यह प्रदर्शन हिंसक होता जा रहा है। किसान हरियाणा से सटी दिल्ली की बॉर्डर पर पहुंच गए थे और दिल्ली में प्रवेश करना चाहते थे, लेकिन दिल्ली तथा हरियाणा पुलिस के साथ ही अन्य सुरक्षा बलों के साथ टकराव शुरू हो गया था। नीचे देखिए वीडियो। दिल्ली को हरियाणा से जोड़ती सिंधु बॉर्डर पर हजारों किसान जमा हो गए थे।

वहीं टीकरी बॉर्डर पर ड्रोन से निगरानी की जा रही है। यहां आगे बढ़ने की कोशिश कर रहे किसानों को पुलिस पीछे धकेलने में लगी है। इस दौरान कई बार भगदड़ की स्थिति बनी। किसी भी विपरीत स्थिति से निपटने के लिए काफी संख्या में पुलिस बल तैनात किए गए हैं। बॉर्डर पर आवाजाही को पूरी तरह रोक दिया गया है।

पुलिस ने आंसू गैस छोड़ी है। इसके बाद किसानों का एक प्रतिनिधि मंडल पुलिस अधिकारियों से मिला। उनका कहना है कि किसानों को दिल्ली जाने दिया जाए। किसान पूरी तैयारी से आए हैं और 10 दिन तक वहां रुकने को तैयार हैं। किसानों ने हिंसा की धमकी भी दी है।

इससे पहले दिल्ली करनाल हाईवे पर पुलिस के साथ संघर्ष हुआ। किसानों पर आंसू गैस के गोले छोड़े गए और वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया। इस बीच, दिल्ली हरियाणा से जुड़ी सिंधू बॉर्डर पर भारी सुरक्षाबल तैनात कर दिए गए हैं। माना जा रहा है कि किसान इसी रास्ते से दिल्ली में प्रवेश करेंगे। किसानों का दिल्ली कूच गुरुवार से जारी है। हालांकि गुरुवार को ही केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा था कि किसानों को आंदोलन करने की जरूरत नहीं है। वे दिल्ली आएं और वार्ता करें। उनकी हितों की रक्षा की जाएगी।

पढ़िए किसानों के दिल्ली मार्च से जुड़ी हर अपडेट, देखिए फोटो वीडियो

दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन आज और बड़ा रूप ले सकता है। दिल्ली में मेट्रो सेवा पर भी किसानों के आंदोलन का असर दिखाई देगा। DMRC ने सूचना जारी कर ये कहा है कि कोई भी मेट्रो दिल्ली की सीमा के बाहर नहीं जाएगी। मेट्रो की सभी सेवाएं दिल्ली के अंदर आने वाले स्टेशनों पर ही बहाल रहेगी।

बहादुरगढ़ के सेक्टर 9 बाईपास चौक पर चारों तरफ पुलिस की ओर से भारी मात्रा में ट्रक खड़े कर दिए गए हैं । पुलिस ने यह रणनीति इसलिए की है कि कोई भी किसान वाहन लेकर दिल्ली की तरफ से निकल सके। ट्रकों की इस भीड़ में सात ट्रक गैस सिलेंडर से भी भरे हुए हैं । अगर कोई अनहोनी होती है तो यहां पर आग जैसी घटना भी हो सकती है। रोहित टोल से निकले किसानों का इसी रास्ते से दिल्ली की ओर कूच करने का अनुमान है। बहादुरगढ़ पुलिस की ओर से सेक्टर 9 बाईपास पर दो स्तरीय नाके के लगाए गए। फिलहाल यहां पर पुलिस कर्मी मौजूद नहीं है।

Image

किसानों के दल में शामिल एक जत्था पहले हाथ जोड़कर नाके पर दिल्ली जाने की गुहार लगाता है। नही मानने पर जेसीबी से सब कुछ हटाकर आगे बढ़ रहा है। रोहद टोल पर भी यही रणनीति किसानों ने अपनायी है। पहले आगे वाले रास्ते की सूचना लेने के लिए कुछ किसान आगे छोटे वाहन में जाते है। सूचना मिलने पर ही किसान आगे बढ़ रहे है। किसानों का एक ही कहना है उन्हें दिल्ली जाना है बस।

Image

Image

Image

Image

Image

Image

Image

Image

रोहतक: किसानों ने महम से दिल्ली की तरफ कूच किया। करीब 200-250 ट्रेक्टर हैं जत्थे में। पुलिस ने नहीं रोका किसानों को। हांसी और रोहतक की सीमा पर पीपला पुल पर प्रशाासन ने नेशनल हाईवे 9 पर म‍िट्टी डलवा क‍िसानोंं को रोकने का प्रयास क‍िया। मगर हजारों क‍िसानों का जत्‍था तमाम अवरोधों को तोड़ आगे बढ़ रहा है। इस दौरान पुलिस ने अश्रुगैस भी छोड़ी।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Budget 2021
Budget 2021