देश में साइबर अपराध लगातार बढ़ रहा है। अब अपराधियों ने लोगों के निशाना बनाने के लिए नया तरीके खोज लिया है। अब कोरोना वैक्सीन रजिस्ट्रेशन (Corona Vaccine Registration) और इंश्योरेंस क्लेम (Insurance Claim) के आधार पर मासूम ग्राहक फ्रॉड (Fraud) का शिकार हो रहा हैं। अगर कस्टमर थोड़ी सी सावधानी बरते तो इस क्राइम से बचा जा सकता है। आइए जानतें हैं फ्रॉड किस तरह से होते हैं।

कोविड वैक्सीन रजिस्ट्रेशन

साइबर अपराधी कोविड वैक्सीन (Covid Vaccine) के रजिस्ट्रेशन के लिए कंफर्मेशन करते हैं। फिर आधार कार्ड और ओटीपी मांगकर बैंक खाते से पैसे निकाल लेते हैं।

इंश्योरेंस क्लेम

अपराधी किसी भी व्यक्ति के अस्पताल में भर्ती होने या उसके निधन होने पर बैंक या बीमा कंपनी के नाम से कॉल करते हैं। शख्स का आधार कार्ड, नॉमिनी का नाम, आधार कार्ड और ओटीपी मांग कर बैंक खाता खाली कर देते हैं। साइबर एक्सपर्ट और Waysol की सीईओ प्रिया सांखला ने इस तरह के फ्रॉड से बचने के लिए कुछ टिप्स बताए हैं।

1. कोई भी बैंक, बीमा कंपनी और सरकार कॉल कर कभी आधार कार्ड या कोई भी डॉक्यूमेंट्स नहीं मांगती है। न किसी प्रकार के वेरिफिकेशन या कंफर्मेशन के लिए कॉल करती है।

2. क्लेम सेटलमेंट के लिए, बैंक अकाउंट बंद करने के लिए और मृत्यु होने पर भुगतान देने के लिए कॉल नहीं किया जाता।

3. अगर गलती से ओटीपी दे दिया है तो आधे घंटे के अंदर बैंक जाए। या कॉल कर बैंक अधिकारी को सूचना दें। जिससे आपकी राशि वापस री-ट्रांसफर हो सके।

4. कॉल करने के लिए किसी बैंक या वॉलेट का हेल्पलाइन नंबर गूगल पर कभी सर्च नहीं करना चाहिए

5. सरकारी योजनाओं से संबंधित किसी भी लिंक पर क्लिक नहीं करना चाहिए।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags