Omicron Virus : महाराष्ट्र सरकार ने हवाई यात्रियों के लिए नये नियम और गाइडलाइन्स जारी किये हैं। इनमें महाराष्ट्र आने वाले लोगों के लिए फुल वैक्सीनेशन के बावजूद आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है। इस आदेश के बाद बड़े पैमाने पर फ्लाइट्स के रद्द होने की संभावना है। इनमें कई नियम ऐसे हैं, तो स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी गये निर्देशों से अलग है। इससे यात्रियों की परेशानी बढ़ सकती है। इसी के मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसे लेकर महाराष्ट्र सरकार को खत लिखा है। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने अपने खत में लिखा, 'महाराष्ट्र सरकार की गाइडलाइन भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से जारी एसओपी और दिशा-निर्देशों के विपरीत है। इसलिए मैं आपसे राज्य की ओर से जारी किए गए आदेशों को भारत सरकार के स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के जैसा करने का अनुरोध करता हूं, ताकि सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में दिशा-निर्देशों का एक समान कार्यान्वयन किया जा सके.'

उधर, महाराष्ट्र में विदेश से आने वाले यात्रियों को लेकर नई गाइडलाइन आज से प्रभावी हो गई है। इसमें मुंबई हवाई अड्डे पर सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों का RTPCR परीक्षण जरूरी किया गया है। यहां तक कि दूसरे राज्यों से महाराष्ट्र आने वाले घरेलू यात्रियों के लिए यात्रा की तारीख से 48 घंटे पहले नेगेटिव आरटीपीसीआर टेस्ट जरूरी कर दिया गया है। वैसे महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में बताया कि दूसरे राज्यों से आनेवाले वैसे यात्री, जो पूरी तरह वैक्सीनेटेड हैं, बिना RT-PCR टेस्ट के हवाई यात्रा कर सकते हैं।

महाराष्ट्र सरकार ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन से अलग अपनी गाइडलाइन तैयार की थी। इसके मुताबिक सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए 14-दिन होम क्वारंटीन रहना जरूरी है। RTPCR टेस्ट निगेटिव हो तब भी 7 दिनों का होम क्वारंटीन जरूरी है। दरअसल, कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट के खतरे के बीच रिस्क वाले देशों से महाराष्ट्र पहुंचे 6 यात्री कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उसके बाद से प्रशासन की चिंता बढ़ गई है। इन सभी के सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए पुणे की लैब में भेजे गए हैं। संक्रमितों में मुंबई, कल्याण, डोंबिवली, मीरा भयंदर और पुणे के लोग शामिल हैं। ये सभी दक्षिण अफ्रीका या दूसरे हाई रिस्क वाले देशों से राज्य में आए हैं। अब उनके संपर्क में आए लोगों का पता लगाने की कवायद चल रही है।

Posted By: Shailendra Kumar