कोरोना वायरस की महामारी देश व दुनिया में कहर ढा रही है। मौतों का सिलसिला नहीं थम रहा है। इस घातक वायरस का कोई पुख्‍ता इलाज तो अभी तक ईजाद नहीं हो पाया है लेकिन इससे सुरक्षा ही इस समय सबसे अहम बात है। आइये हम आपको दैनिक जीवन की छोटी-छोटी उन बातों के बारे में बताते हैं जिनका ध्‍यान रखकर आप अपना व अपने परिवार को कोरोना के संक्रमण से बचाव कर सकते हैं।

1. फल-सब्जियों को गर्म पानी से धोएं

फलों और सब्जियों को तो वैसे भी कभी भी बिना धोए इस्तेमाल नहीं करना चाहिए, लेकिन कोरोना वायरस के खतरे से बचाव के लिए बेहतर है कि इन्‍हें पहले गर्म पानी में अच्छे से धोएं, उसके बाद इस्‍तेमाल करें।

2. कुछ भी छूने के बाद साबुन से हाथ धोएं

इन दिनों आप कुछ भी छूने के बाद हाथ को जरूर धोएं। हालांकि इसके लिए जानकारों द्वारा बहुत सारे उपाय बताए जा रहे हैं, लेकिन साबुन अपने आप में पर्याप्त और प्रभावी चीज है। यहां तक कि बाजार से कोई सब्जी आदि खरीदने के बाद भी हाथ जरूर धोएं ताकि आप सुरक्षित रह सकें।

3. कोरोना वायरस की चेन न बनने दें

इस बात का पूरा ध्‍यान रखें कि आप ऐसा कुछ भी नहीं करें जिससे कोरोना वायरस की चेन बने। इसलिए सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। अभी आप किसी भी हालत में घरों से न निकलें और लॉकडाउन का हर हाल में पालन करें।

4. खरीदारी के समय दस्ताने भी पहनें

बाजार में कोई जरूरी चीज लेने निकलें तो मॉस्क के साथ दस्ताने भी जरूर पहनें। फल और सब्जी की खरीदारी करने भी जाएं तो हाथों में दस्ताने पहन कर जाएं। घर आने पर डिटरर्जेंट पाउडर से धो दें।

5. नाक-मुंह पर न लगाएं हाथ

आप सीधे नाक और मुंह पर हाथ लगाने से बचें। ध्यान रहे कि वर्तमान में कोरोना वायरस का संक्रमण नाक और मुंह को छूने से ही ज्यादा हो रहा है।

6. पौष्टिक आहार लें

लॉकडाउन के दौरान आप अपने खान-पान का भी विशेष ध्यान रखें। पौष्टिक आहार खाएं ताकि स्वस्थ बने रहें।

7. लॉकडाउन का नियम ना तोड़ें

कोरोना वायरस का संक्रमण जिस तरह तेजी से फैल रहा है, उसमें अहतियात ही अभी एकमात्र और सबसे अच्छा उपाय है। इस संबंध में हरियाणा में रोहतक स्थित पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. ओपी कालरा का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग ही अभी इससे बचाव का रास्ता है। इसके साथ अन्य सावधानियां भी जरूरी हैं। लॉकडाउन व्‍यवस्‍था का तो हर हाल में पालन किया जाना चाहिए।

8. अपने डॉक्टर से सलाह लें

आपको अगर कोई भी स्वास्थ्य संबंधी परेशानी है तो संबंधित डॉक्‍टर से फोन पर परामर्श जरूर करें। ध्‍यान रहे कि आप अपने स्तर पर किसी दवा का इस्तेमाल न करें।

शरीर में पानी की कमी न होने पाए

इससे बचाव के लिए शरीर में पानी की कमी न होने पाए। इसके साथ ही खाली पेट न रहें। सादे पानी के साथ ही दही, नारियल पानी सहित अन्य तरल पदार्थ हर दो से तीन घंटे के अंतराल में लेते रहें। शरीर को बीमारी से बचाना है तो इम्यून सिस्टम (प्रतिरोधक क्षमता) को मजबूत करना होगा। इसके लिए आप को खाने के साथ ही अपनी दिनचर्या में काफी बदलाव लाने की जरूरत है।

सुबह के नाश्ते का रखे ख्याल

अगर आप अपनी प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना चाहते हैं तो सुबह का नाश्ता जरूर करें। नाश्ते में उबले अंडे, मौसमी ताजे फल, दलिया, नट्स, अंकुरित अनाज के साथ जूस या लस्सी लें । जब आपके दिन की शुरुआत पौष्टिक नाश्ते से होती है, तो इससे आपके शरीर और दिमाग दोनों को बेहतर पोषण मिलने के साथ रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

यह भी जरूर करें

-दिनचर्या में व्यायाम में योग और मेडिटेशन के साथ घूमने भी जाएं।

- खुद को अनावश्यक तनाव से दूर रखें और गहरी नींद ले।

-वातावरण साफ-सुथरा रखने के साथ अपनी शारीरिक स्वच्छता का विशेष ख्याल रखें।

-रोजाना तुलसी और करी पत्ते की आठ-दस पत्तियां चबाने से रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है।

-रोजाना थोड़ी देर धूप में बैठें ताकि आपका सामना सूर्य की अल्ट्रा वायलेट किरणों से हो।

ये आहार बढ़ाएंगे प्रतिरोधक क्षमता

-टमाटर में विटामिन के, विटामिन सी और फाइबर की बहुतायत होती है, इससे प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है।

-संतरा, नींबू, आंवला, मौसमी जैसे खट्टे फलों को अपने आहार में शामिल करें।

-रोज सुबह लहसुन की दो कलियों के खाने से ब्लड प्रेशर नियंत्रण में रहता है और प्रतिरोधक क्षमता भी मजबूत होती है।

-मशरूम में शरीर की प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने वाले तत्व बहुतायत में पाए जाते है। अंकुरित अनाज का भी सेवन करें।

-रोजाना आठ-दस बादाम भिगोकर सुबह-सुबह सेवन करें। सब्जियों और फल खाने के साथ खूब सारा पानी पीएं।

Posted By: Navodit Saktawat