Indian Railways: देश में जैसे-जैसे कोरोना के केस कम हो रहे हैं, वैसे-वैसे आम जन से जुड़ी सुविधाएं बढ़ रही हैं। भारतीय रेलवे भी यही कर रहा है। ताजा खबर यह है कि भारतीय रेलवे ने 18 महीने बाद कैटरिंग से जुड़ी सेवाएं बहाल करने की तैयारी शुरू कर दी है। यानी जल्दी ही यात्रियों को ट्रेन में खाना उपलब्ध हो सकेगा। लंबी दूरी की रेल यात्रा करने वालों के लिए यह अच्छी खबर है। बता दें, कोरोना महामारी फैलने के बाद पिछले साल Indian Railways ने कैटरिंग सेवाओं पर रोक लगा दी थी। आईआरसीटीसी सूत्रों के मुताबिक, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव अगले हफ्ते एक बैठक कर सकते हैं जिसमें ट्रेनों में परोसे जाने वाले भोजन और अन्य संबंधित मुद्दों पर विचार किया जा सकता है।

Indian Railways: जानिए रेल मंत्री किन मुद्दों पर करेंगे चर्चा

बैठक में रेल मंत्री के बेस किचन, ऑन-बोर्ड किचन, बेडरोल और कंबल उपलब्ध कराने जैसी सेवाओं को फिर से शुरू करने की संभावना पर भी चर्चा करेंगे। ट्रेनों में ई-खानपान सेवाओं को मार्च 2020 से निलंबित कर दिया गया था। यात्रियों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए विभिन्न समितियों ने भारतीय रेलवे को अपने इनपुट भेजे हैं।

Indian Railways: ट्रेनों में उपलब्ध E-catering सेवाएं

कोरोना काल में ऑन-ट्रेन पेंट्री सेवाओं को निलंबित कर दिया गया था। यात्रियों को सीधे रेलरेस्ट्रो वेबसाइट या ऐप से ट्रेनों में खाना ऑर्डर करने की अनुमति दी गई थी। रेलरेस्ट्रो आईआरसीटीसी की अधिकृत ई-केटरिंग विंग है। इसको रेल मंत्रालय से इस जनवरी में ट्रेनों के अंदर सेवाओं को फिर से शुरू करने की अनुमति मिली है। इसके बाद कंपनी ने रेस्तरां के कर्मचारियों और डिलीवरी कर्मियों की थर्मल स्कैनिंग, नियमित अंतराल पर रसोई की सफाई, रेस्तरां के कर्मचारियों के लिए फेस मास्क या फेस शील्ड का उपयोग आदि सहित सख्त दिशा-निर्देश और नियम जारी किए हैं

आईआरसीटीसी द्वारा अधिकृत ई-केटरिंग विंग ने ग्राहकों के लिए भी कुछ नियम बनाए हैं जैसे 'आरोग्य सेतु' ऐप का अनिवार्य उपयोग, हाथ धोने के बाद ही ऑर्डर एकत्र करना, शारीरिक दूरी का पालन करना, मास्क लगाना, डिलीवरी के बाद डिलीवरी बैग का कवर और सैनिटाइजेशन करना आदि।

Posted By: Arvind Dubey