मथुरा Janmashtami 2020। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी मनाने की तैयारी देशभर में धूमधाम से हो रही है, हालांकि कोरोना संक्रमण के चलते ज्यादा भीड़भाड़ करने पर मनाही है। इधऱ मथुरा वृंदावन में भी स्वामी लीलाधर के जन्मोत्सव की धूम है। पहली बार कान्हा का महाभिषेक सरयू के जल से किया जाएगा। सरयू के साथ ही गंगा जल और यमुना जल भी महाभिषेक में उपयोग में लाया जाएगा। कान्हा के अभिषेक में गंगा जल का भी पहली बार उपयोग किया जा रहा है। श्रीकृष्ण जन्मस्थान पर हर बार जन्माष्टमी पर कान्हा का महाभिषेक पंचामृत और यमुना के जल से होता था, लेकिन गुरुवार को जन्माष्टमी के अवसर पर पहली बार त्रिलोक स्वामी का स्नान सरयू के जल से होगा।

नृत्य गोपाल दास खुद लेकर पहुंचे सरयू का जल

सरयू का जल खुद श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास लेकर पहुंचे हैं। गौरतलब है कि महंत नृत्य गोपाल दास श्रीकृष्ण जन्मभूमि न्यास क्षेत्र के अध्यक्ष भी हैं। श्रीकृष्ण जन्मस्थान सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा कहते हैं कि जब भगवान श्रीराम ने मृत्यु लोक को त्याग कर साकेत धाम के लिए प्रस्थान किया था।

तब सरयू जी ही उनका मार्ग बनी थीं। जब 14 वर्ष का वनवास काटकर भगवान राम अयोध्या लौटे थे, तो दीपोत्सव हुआ, सरयू खुश थीं। आज जब भगवान राम के अपने मंदिर में विराजमान होने की बारी आई है, तो सरयू फिर प्रसन्न हैं। ऐसे में सरयू का जल विलक्षण हैं। वह खुद काशी, हरिद्वार और ऋषिकेश से गंगाजल लेकर आए हैं।

Posted By: Sandeep Chourey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020