JP Nadda भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुन लिए गए हैं। दिल्ली में चयन प्रक्रिया की औपचारिकता के बाद संगठन प्रभारी राधामोहन सिंह ने इसका ऐलान किया। इस मौके पर अमित शाह समेत तमाम बड़े नेता मौजूद रहे। वैसे JP Nadda का निर्विरोध चुन लिया जाना पहले से तय था। नड्डा के निर्विरोध चुने जाने की घोषणा के बाद भाजपा के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने उन्हें मुंह मीठा करवाकर बधाई दी। इस मौके पर पार्टी के अन्य नेताओं के साथ ही जेपी नड्डा की पत्नी भी मौजूद थीं।

इसके बाद भाजपा मुख्यालय पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया है जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खुद पहुंचे हैं।

अध्यक्ष चुने जाने के बाद अमित शाह ने उन्हें अध्यक्ष पद का कार्यभार सौंपा। साथ ही ट्वीट कर बधाई दी व अपने कार्यकाल में कार्यकर्ताओं के प्रेम और स्नेह के लिए धन्यवाद भी कहा।

भाजपा संविधान के अनुसार कम से कम आधे राज्यों में सांगठनिक चुनाव होने के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव होता है। इसके हिसाब से अब तक 21 राज्यों में प्रदेश अध्यक्ष और राष्ट्रीय परिषद सदस्यों का चुनाव हो चुके हैं और यही कारण है कि अब राष्ट्रीय अध्यक्ष का चुनाव हुआ है।

चुनाव कार्यक्रम के अनुसार आज 10 बजे से 12.30 बजे तक नामांकन करने की प्रक्रिया हुई और 12.30 से एक घंटे तक नामांकन पत्र की जांच हुई। इसके बाद 1.30 से अगले एक घंटे तक का वक्त नामांकन वापसी के लिए रखा था। हालांकि, 12.30 तक एक ही नाम रहा और उस हिसाब से पार्टी अध्यक्ष के रूप में जेपी नड्डा का नाम चुन लिया गया। अगर उनके सामने कोई उम्मीदवार होता तो मंगलवार को मतदान किया जाता।

इसलिए पड़ी चुनाव की जरूरत

यूं तो भाजपा में सर्वसम्मति से राष्ट्रीय अध्यक्ष चुनने की परंपरा रही है लेकिन एक बार जब नितिन गडकरी को दोबारा अध्यक्ष चुने जाने की तैयारी हो रही थी तब थोड़ा विवाद खड़ा हुआ था। यशवंत सिन्हा के लिए नामांकन का फार्म लेकर महेश जेठमलानी गए थे। हालांकि उस समय यशवंत सिन्हा की ओर से कोई नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया गया था। यह और बात है कि तब नाटकीय ढंग से गडकरी की जगह राजनाथ सिंह को अध्यक्ष बनाया गया था। उस समय थावरचंद गहलोत चुनाव अधिकारी थे। बताया जाता है कि इस बार भी निर्विरोध ढंग से ही नड्डा को अध्यक्ष चुना जाएगा।

संविधान के अनुसार किसी भी उम्मीदवार के पक्ष में कम से कम तीन नामांकन पत्र होने चाहिए। नड्डा के पक्ष में 21-21 सेट दाखिल हो सकते हैं। सभी राज्यों को इस बाबत निर्देश दिया गया है।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket