Kisan News Update : रैली के नाम पर दिल्‍ली में हिंसा का नंगा नाच करने वाले प्रदर्शनकारियों की पूरे देश में निंदा हो रही है। आज पूरे दिन पुलिस का रवैया सख्‍त रहा। जहां एक तरफ पुलिस ने कई किसान नेताओं की गिरफ्तारी की है, केस दर्ज किए हैं, वहीं दूसरी तरफ किसान नेता खुद बैकफुट पर आ गए हैं। लाल किले पर हुई शर्मनाक घटना के बाद बड़ी संख्या में किसान और किसान संगठन खुद को आंदोलन से अलग करने लगे हैं। कड़ाके की ठंड के बावजूद डेरा डाले लोगों के घर लौटना शुरू करने से किसान संगठन बैकफुट पर हैं। संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने एक फरवरी को प्रस्तावित संसद मार्च को स्थगित करने का एलान किया है। इस संबंध में किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि एक फरवरी का संसद मार्च अभी केवल स्थगित किया गया है, क्योंकि दिल्ली में हुई घटना देश को आहत करने वाली है। तिरंगे की बेअदबी गलत है, इसे देखते हुए हमने यह कार्यक्रम अभी स्थगित किया है। मुकदमे पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि वह इस तरह के मुकदमे से नहीं डरते। वह हर मुकाबले के लिए तैयार हैं। बुधवार देर शाम कुंडली बार्डर पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान संयुक्त किसान मोर्चा के नेता डा. दर्शनपाल, योगेंद्र यादव, राकेश टिकैत, बलबीर सिह राजेवाल, गुरनाम सिंह चढ़ूूनी, हन्नान मोला, डा. आशीष मित्तल, शिव कुमार शर्मा कक्काजी, जगजीत सिह दल्लेवाल, जोगेंद्र घासीराम नैन आदि मौजूद रहे।

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने बागपत में पत्रकारों से कहा कि आंदोलन जारी रहेगा। किसान संयुक्त मोर्चा ने उपद्रव के लिए पूरी तरह सरकार और दिल्ली को पुलिस जिम्मेदार ठहराया। कहा कि दोनों ने अपनी भूमिका ठीक से नहीं निभाई। उन्होंने पूरे घटनाक्रम के लिए पंजाब के किसान मजदूर संघर्ष समिति के सतनाम सिह पन्नू और दीप सिद्धू को जिम्मेदार ठहराया है।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags