कृषि सुधार कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों और पुलिस के बीच गुरुवार को हुई वार्ता बेनतीजा रही। किसान नेताओं ने गणतंत्र दिवस पर रिग रोड पर ट्रैक्टर मार्च निकालने की अनुमति देने की मांग की। सुरक्षा और कोरोना महामारी के मद्देनजर पुलिस अधिकारियों ने उनको कुंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे पर रैली निकालने के प्रस्ताव दिया, जिसे किसानों ने नहीं माना। गुरुवार देर सायं सिंघु बार्डर पर हुई संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक के बाद किसान नेता डा. दर्शन पाल ने बयान जारी कर कि किसान ट्रैक्टर मार्च निकालने पर अडिग हैं। किसानों का प्रतिनिधित्व स्वराज अभियान के नेता योगेंद्र यादव सहित सात प्रमुख किसान नेता कर रहे थे। बैठक के दौरान किसान नेता आउटर रिग रोड पर ट्रैक्टर मार्च निकालने पर अड़े रहे। उन्होंने पुलिस को आश्वस्त किया कि वे शांतिपूर्ण तरीके से मार्च निकालेंगे। कुंडली बार्डर पर किसानों ने ट्रैक्टर मार्च की रिहर्सल की। महिलाओं ने भी इसमें हिस्सा लिया। इस दौरान एक्सप्रेस-वे केजीपी-केएमपी पर किसानों की भीड़ रही। गुरुवार को भी महाराष्ट्र से किसानों का एक जत्था पहुंचा।

सिघु बार्डर के समीप एक रिसोर्ट में गुरुवार को हुई इस बैठक का समन्वय संयुक्त पुलिस आयुक्त (उत्तरी रेंज) एसएस यादव कर रहे थे। उनके साथ विशेष आयुक्त (कानून और व्यवस्था-पश्चिमी क्षेत्र) संजय सिह और विशेष पुलिस आयुक्त (खुफिया) देपेंद्र पाठक मौजूद थे। बैठक में हरियाणा और उत्तर प्रदेश पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल थे। वहीं,

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags