#KozhikodeAirCrash : केरल के विमान हादसे में मारे गए दो पायलटों में से एक कैप्टन दीपक साठे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (एनडीए) के पूर्व छात्र थे। उन्हें राष्ट्रपति पदक भी प्रदान किया गया था। एयर मार्शल (सेवानिवृत्त) भूषण गोखले ने बताया कि कैप्टन दीपक वी. साठे राष्ट्रीय रक्षा अकादमी के 58वें पाठ्यक्रम से थे। उन्होंने जून, 1981 में सोर्ड ऑफ ऑनर के साथ वायुसेना अकादमी को पास किया था। वह भारतीय वायुसेना में फाइटर पायलट (विंग कमांडर) भी रहे थे। वह बेहतरीन स्क्वैश खिलाड़ी भी थे। ट्वीटर पर लोगों ने "RIP Sir" ट्रेंड चलाकर उन्‍हें श्रद्धांजलि दी। दीपक देश के उन चुनिंदा पायलटों में से एक थे, जिन्होंने एयर इंडिया के एयरबस 310 विमान और बोइंग 737 को उड़ाया था। एयर इंडिया के अफसरों के मुताबिक, दीपक एयर इंडिया के बेहतरीन पायलटों में से एक थे।

कोझिकोड हादसे के बाद हर कोई उन्हें याद करते हुए कह रहा है कि एयर इंडिया ने एक बेहद काबिल अधिकारी को खो दिया है। वायुसेना की नौकरी के बाद दीपक ने एयर इंडिया की कॉमर्शियल सर्विंसेज जॉइन कर ली थी। दीपक साठे के पिता सेना में ब्रिगेडियर थे। उन्होंने अपना दूसरा बेटा खोया है। उनके पहले पुत्र कारगिल युद्ध में शहीद हो चुके हैं।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020