कोरोना वायरस के खिलाफ जंग जारी है और पूरे भारत में LockDown लागू है। यह LockDown का ही असर है कि सड़कों पर वाहनों की आवाजाही शून्य है और इसका नतीजा प्रदूषण के घटते स्तर के रूप में देखा जा सकता है। आसमान साफ रहने लगा है। पंजाब से खबर है कि यहां से शहरों से हिमाचल प्रदेश की पहाड़ियां साफ दिखाने देने लगी हैं। शुक्रवार को जालंधर और चंडीगढ़ में लोग छतों पर खड़े होकर इन पहाड़ियों को देखने लगे। खासतौर पर जालंंधर में यह कौतूहल का विषय बन गया। लोगों का कहना है कि उन्होंने ऐसा नजारा पहली बार देखा है।

तस्वीरें: बर्फ से ढंकी धौलाधार पर्वतमाला देखने छतों पर उमड़ आया जालंधर

लॉकडाउन के बाद से प्रदूषण में कमी आई है। हाईवे पर नीलगाय और अन्य जीव जंतु देखे जाने के पीछे भी यही दलील दी गई कि वाहनों का शोर थमने से ऐसा हुआ है। बीते दिनों पालमपुर से खबर थी कि क्षेत्र में जंगली मुर्गे-मुर्गियां, सांभर, जंगली गाय व सुअर हर जगह सड़क किनारे देखे जा रहे हैं। साथ ही पक्षियों की चहचहाहट भी लगातार सुनने को मिल रही है।

एयर क्वालिटी इंडेक्स में 50 फीसदी तक सुधार

कई शहरों की आबोहवा सुधर गई है। जम्मू से खबर है कि यहां एयर क्वालिटी इंडेक्स में 50 फीसदी तक सुधार आ गया है। यहां घातक स्तर तक पहुंच चुका वायु प्रदूषण अब पूरी तरह से काबू आ गया है। हवा तरोताजा हो गई है। जम्मू-कश्मीर प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार, यदि किसी शहर में एयर क्वालिटी इंडेक्स 100 से ऊपर आता है तो इससे बच्चों, बुजु्र्गों और सांस के रोगियों को मुश्किल होती है। अब तक जम्मू का एयर क्वालिटी इंडेक्स 100-120 रहता था जो अब 50 पर आ गया है।

Posted By: Arvind Dubey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस